expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Online Education


Chandan News: पीएचडी द्वारा निर्माण कराए जल मीनार बना गांव की शोभा, पानी के लिए तरस रहे हैं लोग

ग्राम समाचार,चांदन,बांका। सबको स्वच्छ नलजल योजना मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का सात निश्चय योजना के तहत हर घर,नल का योजना को प्राथमिकता के आधार पर प्रत्येक घरों में पहुंचाने की बात सरकारी स्तर पर कही जा रही है।लेकिन धरातल पर कुछ और ही देख रही है।प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत कुसुम जोरी पंचायत के कुरुम टांड गांव में सात निश्चित योजना अंतर्गत पीएचडी विभाग द्वारा जलमीनार का निर्माण एक वर्ष पूर्व किया गया है। लेकिन अब तक पानी सफलाई नही हो रही है।इस भीषण 

गर्मी में लोग स्वच्छ जल को लेकर जगह-जगह भटक रहें है।लेकिन घरों पर लगा नल शोभा की बस्तु बन कर रह गई है।ग्रामीण चुरामन यादव का कहना है कि हरिजन टोला में पूर्व से ही एक मोती योजना के तहत विभाग के द्वारा विद्युत मोटर पंप पानी सप्लाई के लिए लगाया गया है। जो कुछ तकनीकी गड़बड़ी के कारण अवरुद्ध कर दिया गया है। जबकि पहले लोगों को पानी मिलती थी। इसी बीच सात निश्चय योजना के तहत गांव के चौक स्थित पर बहुत बड़ा भव्य जल मीनार बनाया गया। लेकिन संवेदक 

की मनमानी के कारण आज तक बंद पड़ा है यहां तक की गांव के मजदूरों दूर से काम करा कर संवेदक के द्वारा मजदूरी नहीं दिया गया। और नहीं तो सभी के घरों में घर घर नल पाइप लगाया गया है।इसको लेकर पीएचडी विभाग के ठेकेदार संवेदक की मनमानी से हम ग्रामीण आज इस कोरोना काल के कारण गांव की लोग जो बाहर कमाते थे। जो लॉकडाउन के कारण घर आकर परिवार के बीच रह रहे हैं।वह भी आज पानी के लिए तरस रहे हैं। यदि विभाग के द्वारा इस जलमिनार को दुरुस्त करा पानी मुहैया करा देते हैं तो गांव के लोगों का जान माल की रक्षा हो जाती। 

उमाकांत साह,ग्राम समाचार संवाददाता,चांदन।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें