expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Online Education


Rewari News : बावल में सम-विषम नियम की पालना न करने पर दुकानदारों के काट चालान : एसडीएम

रेवाडी़ 26 मई। जिलाधीश यशेन्द्र सिंह के निर्देशानुसार एसडीएम बावल संजीव कुमार की देख-रेख में नगर पालिका बाबल की निरीक्षण टीम ने बुधवार को एसओपी के तहत निर्धारित सम-विषम नियमों की पालना न करने वाले 4 दुकानदार के चालान काटे। उन्होंने कहा कि दुकानदार नियमों का पता होने व प्रशासन द्वारा समझाने के बावजूद भी नियमों की अवहेलना व अनदेखी कर रहे हैं, जिसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।



  एसडीएम ने बताया कि कोविड-19 को लेकर सरकार द्वारा जारी नवीनतम एसओपी के तहत ओड-ईवन (सम विषम) की पालना में निरीक्षण के दौरान टीम द्वारा बावल में मेन बाजार, छोटू राम चौक सहित अन्य सभी जगहों का निरीक्षण किया गया तथा नियमों का पालन न करने वाले दुकानदारों के चालान किए गए हैं।
एसडीएम ने बताया कि यह अभियान लगातार जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि अगर कोई भी दुकानदार सरकार के दिशा निर्देशों की पालना नहीं करता है तो उसका चालान किया जाएगा और फिर भी अवेहलना करते पाया जाएगा तो उसकी दुकान को सील भी किया जा सकता है और उसके खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत भी कार्यवाही की जा सकती है।
नगरायुक्त दिनेश यादव ने बताया कि नगर परिषद रेवाड़ी की टीम सरकार द्वारा जारी नवीनतम आदेशों सम विषम की पालना में निरिक्षण के दौरान रेवाड़ी शहर के कटला बाजार में दुकानदारों द्वारा सरकार द्वारा जारी नवीनतम आदेशों की पालना ना करने पर 1000 रुपये के 2 एवं कुंज गली नजदीक राजकीय कन्या स्कूल पर एक हजार रुपए का चालान किया। मौके पर अवेहलना करने वालों की दुकानों को बंद करवाया गया इसके बाद टीम द्वारा पुरानी सब्जी मंडी, आर्य समाज रोड़, नाई वाली, सर्कुलर रोड, काठ मंडी, तकिया सराय, पंजाबी मार्केट,  मोती चौक, सभी बाजार में निरीक्षण कर मास्क के 2 चालान, सामाजिक दूरी के 4 चालान कर कुल 9 चालान कर 4800 रुपए की राशि वसूली।
Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें