expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Online Education


Rewari News : डा. बनवारी लाल ने कहा-पीएम मोदी सच्चे किसान हितैषी

डा. बनवारी लाल ने कहा की खाद के दाम में सब्सिडी बढ़ा कर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने एक बार फिर ये साबित कर दिया कि वे किसानों के सच्चे हितैषी हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी किसान हित में काम कर रहे हैं और 2022 तक किसानों की आय दुगनी करना चाहते हैं। उन्होंने हरियाणा के किसानों की ओर से खाद के दाम घटाए जाने पर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का आभार जताया।


सहकारिता मंत्री डा. बनवारी लाल आज बावल में लोगों की समस्याएं सुन रहे थे। उन्होंने कहा कि पिछले काफी दिनों से खाद का कट्टा 1200 रुपए का मिलता था जबकि 500 रुपए सब्सिडी थी और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 1700 रुपए मैन्युफैक्चर कास्ट पड़ती थी। उन्होंने कहा कि अब कच्चे माल की भाव बढऩे की वजह से लागत 2400 रुपए पहुंच गई थी। कोरोना काल में उत्पादन लागत बढऩे से किसानों को समस्या आ रही थी। अब 700 रुपए का भार सरकार ने अपने ऊपर लिया है पहले जो 500 रुपए सब्सिडी थी उसे मिलाकर अब 1200 रुपए सरकार अपने खजाने से देगी। इस फैसले से किसानों को लगभग 15 हजार करोड़ का फायदा होगा। उन्होंने कहा कि हरियाणा में भी 1 करोड़ 20 लाख कट्टे डीएपी की खपत है और 850 करोड़ का फायदा हरियाणा के किसानों को होगा। उन्होंने विपक्ष द्वारा सरकार पर दाम बढ़ाने के आरोप पर कहा कि दाम बढ़ाना सरकार के हाथ में नहीं, दाम कंपनी और मैन्युफैक्चरर ने बढ़ाए हैं सरकार ने तो सब्सिडी देकर किसानों को राहत पहुंचाई है। उन्होंने ग्रामीणों से   अपील की कि उन्हें कोरोना वैश्विक महामारी है, विरोध के दूसरे तरीके हो सकते हैं लेकिन कोरोना की लड़ाई में एकजुट होना चाहिए। जनसहयोग से ही इस पर महामारी पर काबू पाया जा सकता है। 
Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें