expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Online Education


Pakur News: हाट पोखरिया होकर कोयला डंफर चलने से ग्रामीण परेशान ग्रामीणों ने उपायुक्त को सौंपा आवेदन.


ग्राम समाचार, पाकुड़। अमड़ापाड़ा पाकुड़  लिंक रोड पर लगातार दिन- रात पैनम कोल  माइंस से डंफर द्वारा कोयला ले जाने एवं खाली डंपर के  वापस आने  जाने से हाट पोखरिया के लोगों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। संबंध में हाट पोखरिया के दर्जनों  ग्रामीणों ने तत्कालीन उपायुक्त से सुनील कुमार सिंह को वर्ष 2012 में आवेदन देकर वस्तु स्थिति का हवाला देते हुए   उचित निर्णय लेने के लिए प्रार्थना की थी । तत्कालीन उपायुक्त ने सुनील कुमार सिंह ने  15 दिन के अंदर बाईपास सड़क  निर्माण कार्य शुरू करने  की बात कही थी  ।इस संबंध में और प्रबंधक के वार्ताकार कर आदेश दिया था।  किंतु  आज तक  डंफर गाड़ी  हाट पोखरिया  होकर  चलती आ रही है । ग्रामीणों ने 2012 से    2014, 2015,  2020,  2021  मैं समय-समय पर  अपनी मांग दोहराते रहे हैं ।  किंतु आज तक उनकी मांगे पूरी नहीं हुई है। पुनः 28 अप्रैल 2021 को  पाकुड़ उपायुक्त के नाम दर्जनों  ग्रामीणों ने हस्ताक्षर युक्त आवेदन  देकर  मांग की है की पोखरिया ग्राम जो लगभग 3 किलोमीटर घनी आबादी वाला गांव है । जिसमें दिन-रात कोलला डंफर  चलते रहते हैं । जिससे गांव  24 घंटा प्रदूषित होते रहता है । लोग भय के माहौल में जीवन-यापन कर रहे हैं । हर हमेशा छोटी बड़ी दुर्घटनाएं होती रहती है ।बड़े बुजुर्ग बच्चे बीमार होते रहते हैं। खासकर महिलाएं  सांस की बीमारी से परेशान होते हैं ।कई बार डंपर घरों में घुस जाते हैं। विद्यालय भवन भी कई बार क्षतिग्रस्त हो चुका है ।गांव के अंदर ही प्राथमिक विद्यालय ,मध्य विद्यालय ,उच्च विद्यालय, आंगनबाड़ी केंद्र ,पंचायत भवन, प्रज्ञा केंद्र जन वितरण प्रणाली की दुकान मंदिर आदि स्थापित है। दिनभर डंपर से लोगों  अत्याधिक परेशानी हो रही है। बच्चों की पढ़ाई लिखाई डंपर की आवाज के कारण बाधित हो रही है । ग्रामीणों ने उपायुक्त से अपील की है कि इस संबंध में उचित विचार करते हुए कोयला  का परिचालन गांव होकर चलने से वंचित किया जाए । ताकि ग्रामीण भय -प्रदूषण -दुर्घटना मुक्त वातावरण में सांस ले सके और अच्छी जीवन यापन कर सकें। सरवन भगत ,रवि कुमार ,रजनी कुमारी ,विनोद कुमार भगत ,पिंकी देवी ,बिरजू प्रसाद भगत रामा देवी अंजू देवी प्रियंका कुमारी आदि ने कहा है  कि गांव में जीना दूभर हो गया है अगर यही स्थिति रही तो सभी ग्रामीणों को गांव छोड़ कर जाना होगा। ग्राम वासियों ने बताया कि कोयला गाड़ी पर परिचालन हेतु बाईपास सड़क निर्माण हेतु भूमि अधिकरण किया जा चुका है किंतु इस पर आगे की कार्रवाई नहीं हो रही है 2012 से लगातार प्रयास जारी है अब भी दम पर गांव होकर कोयला डंपर गांव के बीच से गुजरती है जिससे जान-माल की हानि हो रही है ग्रामीणों ने उपायुक्त से मांग की है की कोयला परिचालन गांव से ना होकर बाईपास सड़क निर्माण कर कराया जाए जिससे कि ग्रामीण प्रदूषण मुक्त वातावरण में जीवन व्यतीत कर सकें।


Share on Google Plus

Editor - रंजीत भगत, पाकुड़

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें