expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Godda News: एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया



ग्राम समाचार गोड्डा ब्यूरो रिपोर्ट:-  स्थानीय नगर भवन गोड्डा में एनीमिया मुक्त भारत का एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में उपस्थित मुख्य अतिथि सहित अन्य गणमान्यों को पुष्प गुच्छ देकर सम्मानित किया गया। कार्यशाला की शुरुआत उपायुक्त भोर सिंह यादव, उप विकास आयुक्त अंजलि यादव, सिविल सर्जन डॉ0 शिव प्रसाद मिश्रा, जिला पंचायती राज पदाधिकारी जेसी विनीता केरकेट्टा, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी कालानाथ, रांची से आए यूनिसेफ के स्टेट कंसलटेंट विकास शीट एवं अन्य की गरिमामयी उपस्थिति में दीप प्रज्वलित कर की गई।कार्यशाला का संचालन स्वास्थ्य विभाग के डी0पी0एम0 लोरेंटस तिर्की के द्वारा की गई। कार्यशाला में सर्वप्रथम सिविल सर्जन गोड्डा के द्वारा जानकारी दी गई कि नीति आयोग का एक प्रयास एनीमिया मुक्त गोड्डा में कार्यशाला में उपस्थित सभी लोगों का स्वागत है। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि गोड्डा जिले में वैसे लोग जो एनीमिया से ग्रसित है, जिसमें गर्भवती महिलाएं, धात्री माताएं, किशोरी बालिकाएं एवं बच्चे शामिल हैं जो अत्यंत गंभीर विषय है। इसी विषय को लेकर एनीमिया मुक्त एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन आज किया गया। सिविल सर्जन ने बताया कि सरकार की ओर से एनिमिया मुक्त भारत बनाने को लेकर जिले में कई स्तर पर कार्य हो रहे हैं। इस अभियान को सफल बनाने के लिए सभी को मिलकर मिशन के रूप में कार्य करने की आवश्यकता है।

कार्यशाला में उपायुक्त के द्वारा जानकारी दी गई कि एनीमिया की बीमारी किसी भी आयु वर्ग के बच्चे को हो सकती है। इससे निपटने को दवा दी जाती है। सभी गर्भवती महिलाओं को आयरन की गोली देने से पूर्व रक्त जांच करने को कहा गया। उन्होंने बताया कि आयरन की कमी से एनीमिया की बीमारी होती है। पौष्टिक आहार की कमी, कृमि होने, मलेरिया आदि के कारण एनीमिया होती है। टीवी व फलेरिया के पुराने मरीजों में एनीमिया की बीमारी होती है। थकावट आना, काम में मन नहीं लगना एनीमिया के लक्षण है। ऐसे में डॉक्टर से जांच कराकर दवा लेनी चाहिए। रक्त की कमी से शरीर पर पड़ने वाले कुप्रभाव के संबंध में भी बताया गया। उन्होंने एनीमिया मुक्त भारत बनाने की दिशा में चलाए जा रहे कार्यक्रमों के प्रचार प्रसार पर भी जोर दिया। उपायुक्त के द्वारा जिला में एनीमिया की स्थिति एवं उसमें सुधार लाने हेतु भी निर्देशित किया गया। उपायुक्त ने सभी प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारियों को अपने-अपने प्रखंड के गांव एवं कलस्टर स्तर पर होने वाली बैठकों में शामिल दीदीओं को इससे अवगत कराने एवं अभियान के सफल क्रियान्वयन में उनकी भूमिका की जानकारी देने को कहा।उन्होंने कहा कि उन्हें स्वयं जांच करवाना है।

साथ ही अपने आसपास के किशोरियों/महिलाओं को भी एनीमिया जांच के लिए प्रेरित करना है। साथ ही एनीमिक पाएं जाने पर उन्हें नियमित दवा सेवन के लिए जागरूक करना है। एनेमिया के बचाव एवं रोकथाम को लेकर बताया गया कि जिले में एनीमिया से ग्रसित रोगियों को पोस्टिक आहार का सेवन एवं समय-समय पर एल्बेंडाजोल की गोली ले जिससे एनीमिया को दूर किया जा सकता है। कार्यशाला में विशेषकर एनीमिया मुक्त भारत अंतर्गत प्रेजेंटेशन के जरिए महत्वपूर्ण जानकारियां प्रदान की गई। यूनिसेफ के स्टेट कंसलटेंट विकास शीट के द्वारा एनीमिया मुक्त भारत पर विस्तृत जानकारी दी गई। उप विकास आयुक्त अंजलि यादव के द्वारा कार्यक्रम में विस्तृत रूप से लाइनिंग एवं लॉजिस्टिक सप्लाई पर वृहद जानकारी दी गई एवं प्रखंड स्तर से सहिया सेविका एवं स्कूलों में ससमय लॉजिस्टिक पहुंचाकर लक्षित ग्रुप को खिलाना सुनिश्चित करने के लिए कहा गया साथ ही प्रखंड स्तर के विभिन्न विभाग के पदाधिकारी आपसी समन्वय करते हुए इस कार्यक्रम को सफल बनाएंगे। प्रशिक्षण में 6 माह से 59 माह तक के बच्चों को आईएफएससी सिरप सप्ताह में 2 दिन 5 साल से 9 साल के बच्चों को गुलाबी वाली टेबलेट सप्ताह में 1 दिन एवं 10 साल से 19 साल के किशोर किशोरियों को नीली टेबलेट सप्ताह में एक दिन खिलाया जाना है पर विशेष जोर दिया गया।

वी कैन प्रोजेक्ट के IPE ग्लोबल के रीजनल कंसलटेंट धनंजय त्रिवेदी के द्वारा भी प्रजेंटेशन के माध्यम से एनीमिया मुक्त भारत को लेकर संबोधित किया गया। कार्यक्रम के दौरान उपायुक्त महोदय, उप विकास आयुक्त, सिविल सर्जन गोड्डा सहित अन्य पदाधिकारियों के द्वारा एनीमिया मुक्त अभियान हेतु पोस्टर का विमोचन किया गया।

साथ ही कार्यशाला में उपायुक्त द्वारा उपस्थित प्रखंड विकास पदाधिकारी, CDPO, सुपरवाइजर एवं सहिया साथी से एनीमिया रोग से संबंधित सीधा संवाद कर जानकारी प्राप्त की गई। कार्यशाला में उपायुक्त, उप विकास आयुक्त एवं अन्य के द्वारा एनीमिया जांच हेतु हीमोग्लोबिन टेस्ट कराया गया। कार्यशाला का समापन समाज कल्याण पदाधिकारी कालानाथ के द्वारा धन्यवाद ज्ञापन कर की गई। मौके पर डी0आर0सी0एच0ओ0 डॉ0 मंटू टेकरीवाल,विभिन्न प्रखंडों के प्रखंड विकास पदाधिकारी, स्वास्थ्य विभाग के डी0पी0एम0 लोरेंटस तिर्की, CDPO, सुपरवाइजर, सहिया साथी एवं अन्य स्वास्थ्य कर्मी उपस्थित थे।



Share on Google Plus

Editor - भुपेन्द्र कुमार चौबे

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें