expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Online Education


Bounsi News: पासिंग गिरोह के ज्यादातर सक्रिय सदस्य भूमिगत, सरगना फरार

 ग्राम समाचार, बौंसी, बांका। जिला प्रशासन का पासिंग गिरोह पर लगातार शिकंजा कसता जा रहा है। लेकिन अभी भी इस ग्रुप में कोई सक्रिय सदस्य हैं। जिसके ऊपर प्राथमिकी दर्ज नहीं है। ज्ञात हो कि प्रखंड क्षेत्र के बौंसी हंसडीहा मुख्य मार्ग पर आधे दर्जन से अधिक लाइन होटल मौजूद हैं। जहां पासिंग गिरोह के कई सदस्यों व उनके सरगना की बैठकें होती है। जहां रोज नए नए तरीके से पासिंग का ताना-बाना बुना जाता है। उस होटल संचालक का नाम सामने नहीं आया है। बताया जाता है कि, 

पुलिस प्रशासन में अपनी पैठ बना लेने के कारण ऐसे पासर व होटल संचालक अभी भी बाहर घूम रहे हैं। हालांकि डीएम सुहर्ष भगत व एसपी अरविंद कुमार गुप्ता के कड़े निर्देश के बाद पुलिस सक्रिय हो गई है। लगातार छापेमारी अभियान भी चलाया जा रहा है। इस गिरोह के एक-एक सदस्यों की पहचान की जा रही है। दिलचस्प बात यह भी है कि, पुलिस जब जब सक्रिय होती है। तब तक यह गिरोह अंडर ग्राउंड हो जाता है। पुलिस के द्वारा गिरफ्तार लोग रसूखदार होने के कारण अपनी जमानत करा कर पुनः धंधे में सक्रिय हो जाते हैं। हालांकि एसपी के द्वारा इस रूट के सभी थानाध्यक्षों को कड़ी चेतावनी भी मिलती है। कई थानाध्यक्ष इस 

मामले में निलंबित भी हो चुके हैं। लेकिन पुलिस के कार्रवाई पर फिर सवालिया निशान लगा रहता है। सूत्रों के मुताबिक भागलपुर हंसडीहा स्टेट हाईवे 19 पर ओवरलोडेड वाहनों को पास कराने के लिए पासिंग गिरोह के सदस्यों के द्वारा ₹2500 प्रति गाड़ी वसूल की जाती है। पैसों का यह अवैध खेल झारखंड सीमा क्षेत्र स्थित लाइन होटलों में ही डीलिंग हो जाती है। जिसके बाद गिरोह के करीब 2 दर्जन से अधिक सदस्य भलजोर बॉर्डर से लेकर जगदीशपुर शराब फैक्ट्री के साथ-साथ चलते हुए भागलपुर जिला में प्रवेश करा देते हैं। इन वाहनों में अधिकतर गिट्टी व बालू लदे रहते हैं। नाम न छापने की शर्त पर कुछ वाहन के चालकों ने बताया कि, भलजोर बॉर्डर के पहले झारखंड स्थित एक ढाबे पर प्रत्येक वाहनों से ₹2500 वसूल की जाती है। पासर गिरोह के द्वारा प्रतिदिन 300 से अधिक वाहनों से डीलिंग होती है। जिसमें कई प्रशासनिक व 

पुलिस पदाधिकारी का हिस्सा बना रहता है। गत दिनों बौंसी पुलिस के द्वारा बांका थाना क्षेत्र के पासिंग गिरोह के सदस्य सौरभ व पप्पू को गिरफ्तार कर जेल भेजे जाने के बाद, पासिंग गिरोह के कई सरगना के साथ-साथ उनके सदस्य भूमिगत हो गए हैं। इनमें से अधिकतर लोग झारखंड के विभिन्न जिलों में शरण लिए हुए हैं। इन दिनों ऐसे लोगों को मुख्य मार्ग पर नहीं देखा जा रहा है। गिरफ्तार दोनों युवकों से पुलिस की पूछताछ में लीला वरण गांव निवासी पासिंग गिरोह के सरगना बदरू अंसारी के लिए काम करने की बात बताई है। साथ ही इस मामले में बाराहाट थाना क्षेत्र के राधानगर गांव निवासी अभिषेक चौधरी, गौतम यादव, लसकरी गांव के विक्रम मंडल, मनीष यादव, बांका थाना क्षेत्र के ढाकामोर निवासी दीपक यादव व बड़ी ढाका के नसीर खान, बौंसी हँसडीहा मुख्य मार्ग पर बौसी थाना क्षेत्र में रिलैक्स होटल के पवन चौधरी, शानदार होटल के मिथिलेश चौधरी, पथिक होटल के रजनीश चौधरी के अलावे झपनियाँ गांव निवासी मनीष सिंह पर प्राथमिकी दर्ज है। खास यह भी कि पुलिसिया अनुसंधान में जिले के तीन अधिकारी का नाम भी सामने आ रहा है। हालांकि इस मामले में पुलिस चुप्पी साधे हुए हैं। 

कुमार चंदन, ग्राम समाचार संवाददाता, बौंसी।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें