expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Sahibganj News;साहिबगंज जिले का आर्थिक विकास, पहाड़ों का संरक्षण व संवर्धन जिले में शोध केंद्र निर्माण से ही संभव-डॉ. अर्णव!

ग्राम समाचार, साहिबगंज। साहेबगज राजमहल  के प्राकृतिक संसाधनों,राजमहल की पहाड़ी फॉसिल्स एवं भू वैज्ञानिक पुरातात्विक  ऐतिहासिक स्थलों का डॉ.अर्णव विश्वास नेत्र चिकित्सक,कोलकाता अपनी पत्नी सेजुती विश्वास पुत्र रुद्र द्वारा निजी वाहन से तीन दिनों तक भ्रमण किये।उनके साथ साहिबगंज महाविद्यालय के भूवैज्ञानिक सह पर्यावरण विद डॉ रणजीत सिंह ने उन्हें राजमहल के विभिन्न धरोहरों मंडरो फॉसिल्स पार्क,कटघर,मोती झरना,सिंधी दलान, जामी मस्जिद आदि के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी।
                                                      भ्रमण के क्रम में डॉ.सिंह ने बताया कि झारखंड के राजमहल पहाड़ियों में मिलने वाले जीवाश्म विश्व के अति दुर्लभ प्रजातियों के हैं।राजमहल क्षेत्र में मिलने वाले फॉसिल्स ऐतिहासिक धरोहर व पुरातत्व अवशेषों का भरमार है। साहिबगंज राजमहल वैज्ञानिक दृष्टिकोण से एवं आर्थिक शैक्षणिक शोध के क्षेत्र में अति पिछड़ा हुआ है।यहाँ के पर्यटन स्थलों का विकास, पहाड़ों का संरक्षण व संवर्धन शोध का केंद्र बनाकर ही आर्थिक विकास का मार्ग प्रशस्त किया जा सकता है।
                                   वहीं डॉ.विश्वास ने कहा कि राज्य सरकार व जिला प्रशासन साहिबगंज जिले के लिए म्यूजियम, शोध केंद्र, पर्यटन विभाग का केंद्र बनाएं,ताकि यहां के युवाओं को यहां के छात्रों को यहां के आम नागरिको को वैज्ञानिकों शोधकर्ताओं के लिए एक मिसाल कायम हो सके और शैक्षणिक शोध के क्षेत्र में एक अलग पहचान मिल सके।उन्होंने कहा कि जिले की धरोहरों की सुरक्षा व विकास राजमहल की पहाड़ियों में मिलने वाले फॉसिल्स पर शोध करने के लिए साहिबगंज में शोध केंद्र निर्माण से ही संभव है।
                   साहेबगज जिले के विभिन्न स्थलों का नाम बोर्ड एरो,दूरी होडिंग एवं जानकारी संबंधित स्थलों का नाम लिखा रहना चाहिए ताकि बाहर से आने वाले सैलानियों,पर्यटकों व वैज्ञानिकों के लिए सुविधाजनक हो सके।
Share on Google Plus

Editor - Gram smachar, sahibganj

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें