expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Chandan News: बाबा बैद्यनाथ धर्मशाला में भूमि अधिग्रहण को लेकर की गई चर्चा

 ग्राम समाचार, चांदन,बांका। आज श्री बाबा वैद्यनाथ धर्मशाला में एक बैठक किया गया।  कोरोना काल में भूमि अधिग्रहण का कार्य तत्काल बंद कराया जाए, कारण बांका चांदन में कोरोन कॉल मैं भूमि अधिग्रहण का कार्य तत्काल बंद कराने पर चर्चा किया गया। जिसमें बताया गया कि कोरोना संक्रमण से बच्चे और बचाव के बारे में विस्तार पूर्वक चर्चा किया गया और एक बैठक किया गया। बैठक में मुख्य अतिथि चांदन के पूर्व प्रमुख पलटन यादव के नेतृत्व में कोरिया पंचायत की अवकाश प्राप्त शिक्षक शिरोमणि यादव की अध्यक्षता में बैठक हुई।



बुलाई गई। जो चांदन प्रखंड के गुढ़ियारी धर्मशाला में आयोजन किया गया। इस बैठक में जमीन संबंधित सर्वे को लेकर चांदन प्रखंड के जनप्रतिनिधि के साथ-साथ ग्रामीणों में भाग लेते हुए इस वैश्विक महामारी करोना काल में सर्वे का कार्य होना एवं प्रखंड के सर्वेयर बिचौलियों द्वारा गांव गांव पंचायत जाकर किसानों को बरगलाने के बारे में चर्चा आज समय लगभग 2:00 बजे गुढ़ियारी धर्मशाला के प्रांगण में विभिन्न गांव से आए सैकड़ों ग्रामीण बुद्धिजीवियों एवं प्रतिनिधियों ने एकत्रित होकर बैठक कर एक प्रस्ताव लिया। बैठक में उपस्थित पूर्व प्रतिनिधि प्रखंड प्रमुख बैजू यादव, पूर्व जिला परिषद, मिठन यादव,तुलसी रजक, गोविंद दास, वकील ब्रह्मदेव सिंह,अरुण बेसरा,पवन मंडल,पूर्व पंचायत समिति निर्मल मंडल इत्यादि ने हस्ताक्षर युक्त बांड बनाकर हाई कोर्ट का रुख न्यायालय तक अग्रेषित करने का मन बनाया। यह भी बताया गया कि पहले गांव पंचायतों में बैठक रखी जाएगी। और हो रहे सर्वे के संबंध में विस्तृत जानकारी दी जाएगी। सर्वे का कार्य में प्रकाश डालते हुए पूर्व प्रमुख पलटन यादव ने बताया कि, बिहार राज्य सरकार द्वारा 1970 में सर्वे का काम किया जा रहा था। फिर 1975 में चांदन प्रखंड में चकबंदी का कार्य किया गया। पुन: 1988 से सर्वे का काम 2011 तक किया गया। इस तरह सभी किसानों का खतियान बना। जिसमें कुछ रैयत को खतियान मिला, और कुछ को नहीं मिला। जो अभी तक मिलना बाकी है। इसलिए इस सर्वे को रोककर बाकी किसानों का खतियान वितरण किया जाए । फिर खतियान के मुताबिक ऑनलाइन सर्वे किया जाए। तथा रजिस्टर 2 कि सुधार किया जाए।  जिससे समाज में शांति भंग ना हों। अन्यथा इसका विरोध की जाएगी क्योंकि जब से यह नियम लगाया गया है ब्लॉक का बिजोलिया सर्वेयर द्वारा गांव गांव जाकर किसानों को बरगलाने का काम कर रहे हैं। उसे बंद किया जाए। सर्वेयर 1906 का खतियान मांग कर रहे हैं, जो गलत है। सर्वे कार्यालय के फॉर्म में वंश वृक्ष यानी वंशावली दर्शाया गया है, जिसे अनुमानित मृत्यु बताने पर कोई भी आपत्ति कर सकते हैं। यह भी बताया गया है कि इस सर्वे में किसानों को आर्थिक दोहन ना करें इसे पारदर्शिता पूर्वक ऑनलाइन सर्वे किया जाए जिससे कोरोना काल में संक्रमण से बचा जा सके। इस संबंध मैं उपस्थित सदस्यों ने साथ साथ हाथ उठाकर सर्वे अधिनियम कानून का विरोध करते हुए बंद कराने पर जोर देते हुए सर्वे कार्य के अधिकारियों को अग्रेषित किया गया एवं उच्च न्यायालय हाई कोर्ट जाने का मन बनाया।

उमाकांत साह, ग्राम समाचार संवाददाता, चांदन।

Share on Google Plus

Editor - सुनील कुमार

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें