expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Rewari News : दो सांडो की लड़ाई की चपेट में आया स्कूटी सवार युवक, हादसे में युवक संजय उर्फ डोली की मौके पर हुई मौत

रेवाड़ी में आये दिन आवारा पशुओ का आतंक बढ़ता ही जा रहा है। कैटल फ्री रेवाड़ी में लावारिस पशुओ का आतंक एक युवक पर कहर बनकर टुटा। घटना रेवाड़ी के अति व्यस्तम बाजार ठठेरा चौक की है जहां दो सांडो की लड़ाई में एक युवक की जान चली गई। सीसीटीवी की तस्वीरों में लाइव आप इस घटना को देख सकते है जिसमे एक युवक स्कूटी पर सवार होकर अपने घर से दुकान की तरफ जा रहा तभी पुरानी तहसील की तरफ से दो सांड लड़ते हुए आये और तेजी से भागते हुए पंजाबी मार्किट की और जा रहे थे तभी साड़ी महल की तरफ से संजय उर्फ डोली नाम का युवक अपनी स्कूटी पर घर से दुकान जा रहा था तभी ठठेरा चौक पर अचानक भागते हुए सांड के बीच में आने से एक सांड तो निकल गया लेकिन पीछे से आ रहा दूसरा सांड युवक को रौंदता हुआ निकल गया। जिससे युवक डोली की मौके पर ही मौत हो गई। 35 वर्षीय युवक फोटो ग्राफर था जो यहीं पास में एक स्टूडियो चलाता था. वही आवारा पशुओ से के हमले में हुई युवक की मौत के कारण स्थानीय लोगो में प्रशासन और नगर परिषद् के खिलाफ खासा रोष दिखाई दिया। उनका कहना था कि वैसे तो प्रशासन शहर को कैटल फ्री होने का दावा करता है लेकिन आये दिन इन पशुओ के हमले से लोगो में दहशत बनी हुई है। उन्होंने सरकार और प्रशासन से मांग की है कि इन पशुओ को गौशाला आदि में छोड़ा जाये ताकि लोग चैन की साँस ले सके। यहाँ हम आपको बता दें कि लावारिस पशुओ के हमले का यह कोई पहला मामला नहीं है इससे पहले भी एक सप्ताह पूर्व भी लावारिस पशु ने दो बच्चों पर जानलेवा हमला कर दिया था और उन्हें कई बार उठाकर जमींन पर पटक दिया था जिसमे मौके पर मौजूद लोगो ने दोनों बच्चो का पशु के हमले से बचाया था। ये लावारिस पशु शहर के बाजारों में बेख़ौफ़ घूमते हुए दिखाई देते है और प्रजनन के समय बहुत आक्रामक हो जाते है।

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें