expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Rewari News : 15 अगस्त पर सम्मानित नहीं करने पर कोरोना योद्धा रोडवेज बस के चालक-परिचालको में रोष, जॉइंट एक्शन कमेटी ने प्रैस कॉन्फ्रेंस कर डिपो के जीएम को सीएम के नाम ज्ञापन सौंपा


ग्राम समाचार न्यूज : रेवाड़ी : रेवाड़ी रोडवेज डिपो की जॉइंट एक्शन कमेटी ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री के नाम रोडवेज जीएम नविन कुमार को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में 15 अगस्त को रोडवेज स्टाफ के स्टेनो टाइपिस्ट कैलाश चंद को दिया गया सम्मान वापस लेने की मांग की गई। इससे पूर्व कमेटी के चालक परिचालकों ने एक निजी रेस्टॉरेंट में प्रेस कांफ्रेंस की और स्वतंत्रता दिवस पार कोरोना योद्धा रोडवेज बस के चालक परिचालकों को सम्मानित नहीं करने पार रोष जाहिर करते हुए स्टेनो टाइपिस्ट से सम्मान वापस लेने की मांग की है। रोडवेज बस चालकों परिचालकों ने मीडिया से बातचीत में कहा कि कोरोना वायरस महामारी में लगे लोक डाउन के दरम्यान वे जान का जोखिम उठाकर बसों में प्रवासी मजदूरों को उनके गृह जिलों तक छोड़कर आये थे इस दौरान उन्होंने आगरा, अलीगढ़, गोरखपुर, गाजियाबाद, कानपूर समेत अनेक जिलों में गए और पुलिस के लाठी डंडे भी खाये इतना ही नहीं वायरस संक्रमण के खतरे के चलते लोगो की उपेक्षा भी सहन की। लेकिन प्रशासन की ओर से 74 वे स्वाधीनता दिवस पर कोरोना योद्धा के रूप में उन्हें प्रसस्ति पत्र देकर सम्मानित करना भी उचित नहीं समझा गया। जबकि रोडवेज महकमे में उत्कृष्ट कार्यो का हवाला देते हुए डिपो में ऐसे व्यक्ति को सम्मानित कर दिया गया जिसका कोरोना वॉरियर्स से दूर दूर तक कोई सम्बन्ध नहीं है। उक्त व्यक्ति रेवाड़ी डिपो में कार्यरत स्टेनो टाइपिस्ट कैलाश चंद है जो लॉक डाउन के समय अपने कमरे में ही रहे और चालक परिचालक कोरोना का फ्रंट लाइन में खड़े होकर सामना करते रहे उन्हें नजरअंदाज कर दिया गया। यूनियन कमेटी ने स्टेनो कैलाश चंद को भ्रष्ट अधिकारी बताते हुए इस सम्मान को वापस लेने की मांग की है। उल्लेखनीय है कि 15 अगस्त पर रेवाड़ी में राजयमंत्री ओमप्रकाश यादव ने कोरोना में बेहतर काम करने वाले डॉक्टर्स, पैरा मेडिकल स्टाफ, पुलिस कर्मियों और सफाई कर्मियों आदि को प्रसस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया था। जिसमे रोडवेज चालक परिचालकों का कही कोई नामो निशान तक नहीं था। उन्होंने कैलाश चंद पर कई आरोप लगाते हुए कहा कि कैलाश चंद के खिलाफ विजिलेंस जाँच चल रही है जिसमे वे दोषी पाए गए लेकिन रानजीतिक संरक्षण प्राप्त होने के चलते वे अपने पद पर बने हुए है। जॉइंट एक्शन कमेटी ने सरकार और प्रशासन से मांग की है कि या तो उक्त स्टेनो से सम्मान वापस लिया जाये अन्यथा कमेटी दोबारा बैठक कर आंदोलन राणिनीति तैयार करेगी। वहीं इस बारे में जब मीडिया ने रोडवेज जीएम नविन शर्मा से बात की तो उन्होंने बताया कि कोरोना वॉरियर्स को सम्मानित करने की सूचि प्रशासन द्वारा ही बनाई गई थी उन्ही के द्वारा इसकी मॉनिटरिंग की गयी थी। रही बात ज्ञापन की वे इसे सीएम ऑफिस तक भेज देंगे। 

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें