expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Pakur News: अंतर राज्यीय चेक पोस्ट से प्रवेश करने वाले को करें 14 दिन होम क्वॉरेंटाइन

ग्राम समाचार, पाकुड़। कोरोना वायरस (कॉविड -19) के बढ़ रहे संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए राज्य सरकार ने आगामी 31 जुलाई तक पूरे सुबह में लॉकडाउन घोषित किया है। ऐसे में अंतर राज्यीय चेक पोस्टों से प्रवेश करने वाले लोगों की सख्त मानिटरिंग की जानी है। http://jharkhandtravel.nic.in
में उनका विवरण अपडेट करना है। साथ ही उन्हें आगामी 14 दिनों के लिए होम क्वॉरेंटाइन करना है। होम क्वॉरेंटाइन अवधि की नियमित मॉनिटरिंग करनी है। यह सुनिश्चित करना है कि वह घरों से बाहर नहीं निकले। अगर हमको लाकडाउनके नियमों का अनुपालन नहीं किया जाता है तो उनके विरोध कार्रवाई के साथ ही उन्हें तत्काल संस्थागत कोरेनटाइन सेंटर में स्फ्टि करें। यह बातें उपायुक्त कुलदीप चौधरी ने शनिवार को सभी प्रखंडों के प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं अंचलाधिकारी को कहीं। कहां कि कोरोना वायरस के संक्रमण पर नियंत्रण एवं आम जनों की स्वस्थ सुरक्षा के लिए यह बेहद जरूरी है
राज्य स्तर से इसकी सीधी मॉनिटरिंग की जा रही है। अंतर राज्य चेकपोस्ट से प्रवेश करने वालों का मोबाइल नंबर अनिवार्य रूप से एंट्री करें। उन्हें मोबाइल हमेशा ऑन रखने को कहें। जिला प्रशासन कर रहा सभी की मॉनिटरिंग राज्य स्तर से वैसे लोगों को चिन्हित किया गया है जिन्होंने हाल फिलहाल अंतर राज्य चेकपोस्ट से प्रवेश किया है और वह होम क्वॉरेंटाइन अवधि में दिए गए दिशा-निर्देशों का सही से अनुपालन नहीं कर रहे हैं। उन्होंने संबंधित प्रखंड के प्रखंड विकास पदाधिकारी अंचलाधिकारी को ऐसे लोगों के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। प्रशासन ने आम लोगों से सहयोग का किया अपील। जिला प्रशासन ने आम लोगों से प्रशासन का सहयोग करने का अपील किया है। प्रशासन द्वारा दिए गए गाइडलाइन का अनुपालन स्वयं उनकी सुरक्षा से जुड़ा मामला है। इस लिए वह इसमें गंभीरता बरतें। नहीं तो प्रशासन और सख्ती बरतेगा।

Share on Google Plus

Editor - रंजीत भगत, पाकुड़

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें