expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Rewari News : महेंद्रगढ़ के बाद रेवाड़ी पंहुचा टिड्डी दल प्रशासन सजग व सतर्क

रेवाड़ी में टिड्डी दल को लेकर बैठक करते जिला उपायुक्त. 

ग्राम समाचार न्यूज : रेवाड़ी : उपायुक्त यशेन्द्र सिंह ने शुक्रवार को रेस्ट हाउस में टिड्डी दल नियन्त्रण के लिए आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि कृषि, राजस्व, पंचायती राज विभाग सहित अन्य विभाग टिड्डी से होने वाले नुकसान से बचाव के लिए सजग व सतर्क रहें। प्राप्त सूचना के अनुसार महेंद्रगढ़ में टिड्ïडी दल पंहुच गया है। वह रेवाड़ी जिला में भी प्रवेश कभी कर सकता है। इसलिए सभी विभाग मिशन मोड में कार्य करें तथा किसानों को बचाव के बारे में जागरूक करें। कृषि विभाग की विशेष रूप से जिम्मेदारी बनती है कि इस बारे में किसानों को ज्यादा से ज्यादा जागरूक करे। विभाग द्वारा बनाए गए कंट्रोल रूम के नबंरों व बचाव के अन्य उपायों डॉ दीपक कुमार ने बताया की महेंद्रगढ़  से प्राप्त जानकारी के अनुसार टिड्डी के अनेक दल सक्रिय हैं और रेवाड़ी जिला में आज या कल प्रवेश कर सकते हैं। उपायुक्त यशेन्द्र सिंह ने टिड्डी दल से होने वाले नुकसान से बचाव के लिए टिड्डी दलों पर स्प्रे कार्य शुरू करने के निर्देश दिए हैं. टिड्डी दल का रेवाड़ी जिले में प्रवेश हो गया आज शाम को खोल खंड के गांव मंदौला, बुड़ौली आदि में पहुंचा टिड्डी दल। डीसी सहित प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे और कहा कि किसान घबराए नहीं ढ़ोल-नगाड़ें, थाली आदि बजाकर टिड्डियों को उड़ाए। प्रशासन ने आहवान किया कि किसान व ग्रामीण ढ़ोल-नगाड़ें, थाली आदि बजाकर टिड्डियों को भगाए.
                   
उन्होंने बताया की टिड्डी एक बहुभक्षी एंव अन्तराष्ट्रीय कीट है जो प्राय: सभी प्रकार की वनस्पति को खाकर नुकसान पंहुचाती है इसलिए यह प्राकृतिक आपदा की श्रेणी में आता है। शहरी क्षेत्र में कोई नुकसान नहीं होता। कृषि अधिकारी ने बताया कि किसान थाली ,ढ़ोल नगाड़े आदि बजाकर टिड्ïडी दल अपने खेत से भगा सकते हैं। उपायुक्त ने पंचायतीराज विभाग को ग्राम स्तर पर ज्यादा से ज्यादा ग्रामीणों को जागरूक करने के निर्देश दिए।  
बैठक में कृषि अधिकारियों द्वारा टिड्डी दल जीवन चक्र के बारें में जानकारी देते हुए बताया कि यह रेगिस्तानी टिड्डी को मुख्यत: तीन भागों में बांटा जाता है अंडा, होपर या फुदका तथा प्रोढ़ टिड्डी। यह विनाशकारी टिड्डी दल है, अगर इसे रोका न जाये तो बहुत नुकसान पहुंचाता है। उपायुक्त ने इसकी रोकथाम के लिए क्लोरपैरिफोस (20ई0सी0)दवा का प्रबंध करने के निर्देश कृषि विभाग को दिए। कृषि विभाग के अधिकारी ने बताया कि जागरूक किसान टिड्ïडी दल के आगमन पर अपने खेत को नुकसान से बचाने के लिए क्लोरपैरिफोस दवाई का छिडक़ाव करना चाहते हैं। ऐसे इच्छुक किसानों को यह दवाई विभाग द्वारा 50 प्रतिशत अनुदान पर उपलब्ध कराई जाएगी। समय पर दवाई का छिडक़ाव होने से फसली नुकसान होने से किसान बच सकता है।
               
रांउड दा क्लॉक कंट्रोल रूम स्थापित
उपायुक्त ने कहा कि  उप निदेशक कृषि कार्यालय में 24 सौ घंटे जिला स्तरीय कंटा्रेल रूम स्थापित किया गया है, जिसका दूरभाष नम्बर 01274-222322 तथा मोबाईल नम्बर 9467259229 (रविन्द्र कुमार, कृषि विकास अधिकारी, पौधा संरक्षण), ब्लॉक कृषि अधिकारी कोसली 8684888854 तथा सतीश एडीओ नाहड़  9812470692 को आमजन  टिड्डी दल के आगमन की सूचना तुरंत इन नम्बरों दें ताकि तुरन्त टिड्ïडी दल की रोकथाम के लिए बचाव के तरीके बिना किसी देरी के अमल में लाएं जा सके। डीसी ने जिले के सभी ट्रैक्टर चालित स्प्रे पम्प रखने वाले किसानों व  अग्निश्मन यन्त्र को तैयार रखने के निर्देश दिए।
उपायुक्त ने कृषि विकास अधिकारी को निर्देश दिए कि सीमावर्ती गांवों में टिड्डी दल से बचाव के तरीके जैसे ढोल-नगांड़े, डीजे बजाकर टिड्डी दल को भगाने हेतू जागरूक करें। उन्होंने कहा कि टिड्डी दल के आगमन की सूचना अहम है, इसलिए कृषि विभाग के अधिकारी  सीमावर्ती जिलों के कृषि उप निदेशकों से लगातार सम्र्पक में रहें और टिड्डी दलों की वास्तविक स्थिति की निरंतर जानकारी से अपडेट रहें और संबंधित एसडीएम को भी जानकारी देते रहें ।
इस अवसर पर अतिरिक्त उपायुक्त राहुल हुड्डा, एसडीएम रेवाड़ी रविन्द्र यादव, एसडीएम कोसली कुशल कटारिया व एसडीएम बावल रविन्द्र कुमार, जिला राजस्व अधिकारी विजय यादव व उपमण्ड़ल कृषि अधिकारी दीपक मौजूद रहे।
फोटो कैप्शन: टिड्डी दल से बचाव के उपायों को लेकर अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपायुक्त यशेन्द्र सिंह

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें