Editorials : भारत-चीन झड़प पर प्रतिक्रिया

भारत-चीन झड़प पर प्रतिक्रिया / राहुल गांधी ने पूछा- प्रधानमंत्री इस मामले को छिपा क्यों रहे हैं; अब बहुत हो चुका, हमें पता चलना चाहिए कि हुआ क्या था?

लद्दाख में सोमवार रात हुई झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हुए
चीन के भी 43 सैनिकों के हताहत होने की खबर, लेकिन उसने कबूला नहीं

नई दिल्ली. भारत-चीन की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प की घटना पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सवाल उठाए हैं। राहुल ने पूछा है कि मोदी चुप क्यों हैं? इस मामले को वे छिपा क्यों रहे हैं? अब बहुत हो चुका, हमें पता चलना चाहिए कि आखिर हुआ क्या था? राहुल ने कहा कि चीन हमारे सैनिकों को मारने और हमारी जमीन पर आने की हिम्मत कैसे कर सकता है?



कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से सवाल किया है। उन्होंने फोर्स मैगजीन के एडिटर प्रवीण साहनी के उस ट्वीट को शेयर किया है, जिसमें ऐसी चर्चाओं का जिक्र है कि भारतीय सैनिकों को बिना हथियार लिए चीन से बातचीत के लिए जाने के आदेश थे।





संजय राउत ने पूछा- चीन को करारा जवाब कब देंगे?
शिवसेना सांसद राउत ने मोदी से सवाल भी किए हैं और ये भी कहा है कि प्रधानमंत्री जी आप योद्धा हो, आपके नेतृत्व में देश चीन से बदला लेगा। हिंदी में किए ट्वीट में राउत ने मात्राओं की गलतियां भी की हैं।



चीन के मुंहजोरी को कब मिलेगा करारा जबाब?बिना गोली चले हमारे 20 जवान शहीद होते है.हमने क्या किया?
चिनके कितने जवान मारे  गये? चीन हमारे जमीन पर घुस गया है क्या?प्रधान मंत्रीजी इस संघर्ष के घडीमे देश आपके साथ है लेकीन सच क्या है?
बोलो.कुछ तो बोलो. देश सच जानना चाहता है. 
जय हिंद!



चीन के सैनिकों ने भारतीय जवानों पर धारदार चीजों से हमला किया
सोमवार रात लद्दाख में बातचीत करने गए भारतीय जवानों पर पर चीन की सेना ने हमला कर दिया था। पत्थरों, लाठियों और धारदार चीजों से हुए इस अटैक में भारत के कमांडिंग ऑफिसर समेत 20 सैनिक शहीद हो गए। चीन के भी 43 सैनिक हताहत होने की खबर है, लेकिन उसने यह कबूला नहीं है। तीन घंटे चली झड़प दुनिया की दो एटमी ताकतों के बीच लद्दाख में 14 हजार फीट ऊंची गालवन वैली में हुई।

सौजन्य : दैनिक भास्कर 
Share on Google Plus

Editor - MOHIT KUMAR

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें