expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Banka News: प्रखंड स्तर पर 7 से 8 क्वारंटाइन सेंटर तैयार करने का दिशा निर्देश

ग्राम समाचार, बांका। जिला पदाधिकारी बांका एवं पुलिस अधीक्षक बांका द्वारा सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी, सभी अंचलाधिकारी एवं सभी थानाप्रभारी के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए एवं दूसरे राज्यों से आने वाले मजदूरों के लिए प्रखंड स्तरीय क्वॉरेंटाइन सेंटर पर्याप्त मात्रा में यानी एक प्रखंड में कम से कम 7 से 8 क्वारंटाइन सेंटर तैयार करने हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिया गया।

विशेष रुप से इंटर बॉर्डर स्टेट भलजोर,पंजवारा, दर्दमारा जैसे महत्वपूर्ण बॉर्डर पर बाहर से आने वाली सामानों को आने देना, परंतु बाहरी राज्यों से आने वाले व्यक्तियों को बॉर्डर पर रुक कर उनका डकुमेंटशन होना अनिवार्य है। जिलाधिकारी  सुहर्ष भगत ने साफ निर्देश दिया है की बॉर्डर पर ही सीमा राहत केंद्र बनाकर उन्हें रोकना है।बॉर्डर पर ही बाहर से आने वाली व्यक्तियों की सूची तैयार कर लेनी है इसके लिए प्रखंड विकास पदाधिकारी अपने तेजतर्रार कर्मियों को ड्यूटी पर लगाएंगे। सूची में सिस्टम से संबंधित अभियुक्ति भी बनाएंगे। आने वाले व्यक्तियों का भलीभांति स्क्रीनिंग कर लेंगे। मार्च में आने वाले व्यक्तियों में संक्रमण कम था परंतु अभी जो लोग आएंगे खासकर बंगाल क्षेत्र से आने वाले लोगों में ज्यादा संक्रमण देखने को मिल रहा है।ऐसा भी हो सकता है कि तुरंत उसमें लक्षण ना नजर आएं। चार-पांच दिनों के बाद लक्षण प्रकट होते हैं, तो इस स्थिति में आवश्यक है कि उनका डाटा तैयार रखना चाहिए। अभी सभी को क्वॉरेंटाइन सेंटर में उन्हें रखा जाएगा। किसी भी परिस्थिति में किसी को घर जाने की अनुमति नहीं होगी। स्टेट बॉर्डर एवं अन्य जिलों के साथ लगे हुए बॉर्डर पर विशेष निगरानी रखना है। सभी प्रखंडों में दो तरह के क्वॉरेंटाइन सेंटर बनाना है, सबसे पहले प्रखंड स्तर पर स्वास्थ्य विभाग क्वारंटाइन सेंटर बनाना है। जहां लक्षण परिलक्षित होने वाले 25 से 30 व्यक्तियों को रखा जाएगा। उसके बाद उनका सैंपल लिया जाएगा। इसके बाद सोशल डिस्पेंसिंग बनाकर रखना अनिवार्य है। सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी,अंचलाधिकारी एवं थाना प्रभारी आपस में समन्वय स्थापित कर ऐसा भवन चिन्हित करें जहां 10 से 12 कमरे हो, एक शौचालय में चार से पांच लोग जा सके। पी0एच0ई0डी0 विभाग द्वारा महिलाओं एवं पुरुषों के लिए अलग-अलग शौचालय बनाए जाएंगे। खाने पीने की व्यवस्था स्वास्थ्य विभाग द्वारा किया जाएगा। प्रखंड विकास पदाधिकारी वहां पर एक शिक्षण की व्यवस्था करेंगे। स्वास्थ्य विभाग के क्वारंटाइन सेंटर में केवल लक्षण वाले व्यक्ति ही रहेंगे ।थाना प्रभारी हमेशा सचेत रहेंगे। वहां पर सावधानी बरतनी पड़ेगी कि वहां के लोग बाहर ना जा सके और ना बाहरी किसी व्यक्ति का प्रवेश हो सके। सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जाएंगे। प्रखंड विकास पदाधिकारी, अंचलाधिकारी एवं थाना प्रभारी आपस में समन्वय बनाकर कार्य करेंगे, इसके अलावा माइकिंग, लाइट की व्यवस्था 1 से 2 दिनों के अंदर में कर लेने का निर्देश भी दिया गया है
 दूसरा क्वॉरेंटाइन सेंटर आपदा विभाग द्वारा चलाया जाएगा उस में ऐसे लोग रहेंगे जिसमें अभी लक्षण नहीं हैं। आने वाले दिनों में 10 से 12 हजार लोगों के आने का अनुमान है।ऐसी परिस्थिति में बॉर्डर के जो प्रखंड है उसमें शंभूगंज, अमरपुर, रजौन, बौंसी, चांदन, कटोरिया वहां पर बहुत सावधान रहने की आवश्यकता है एवं आने वाले व्यक्तियों का अच्छे से डॉक्यूमेंटेशन तैयार करना है। ऐसे कार्यों के लिए वहां पर अनुभवी व्यक्तियों की आवश्यकता है ओर सभी की सूची तैयार करनी है।
बाहर से आए हुए सभी  व्यक्तियों को आपदा विभाग द्वारा बनाए गए क्वारंटाइन  सेंटरों में 14 दिनों तक रखना अनिवार्य है। लक्षण आने के बाद उनको हेल्थ क्वॉरेंटाइन सेंटर में शिफ्ट किया जाएगा। जिले में वाहन कोषांग का गठन किया गया है, पी0बी0एस0 कॉलेज बांका में वाहन कोषांग चल रहा है। आने वाले व्यक्तियों को वाहन कोषांग के माध्यम से बॉर्डर से पी0बी0एस0 कॉलेज लाया जाएगा, उसके बाद उनको संबंधित प्रखंड में पहुंचाया जाएगा।
Share on Google Plus

Editor - सुनील कुमार

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें