Bhagalpur News:एसएम कॉलेज में वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता में छात्राओं ने दिखाया जलवा, झटके कई पदक


ग्राम समाचार, भागलपुर। एसएम कॉलेज में शुक्रवार को महाविद्यालय वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। यह आयोजन महाविद्यालय के खेल मैदान में आयोजित हुआ। तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के प्रभारी कुलपति डॉ अवध किशोर राय ने वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता का उदघाटन किया। कुलपति ने उदघाटन भाषण देते हुए कहा कि एसएम कॉलेज टीएमबीयू का प्रीमियर महिला महाविद्यालय है। खेल में अनुशासन जरूरी है। आज खेल के क्षेत्रों में महिलाओं ने भी अपनी एक खास जगह बनाई है। जमीन से लेकर आसमान तक लड़कियाँ परचम लहरा रही हैं। खेल का मैदान हो या जंग का मैदान सभी जगह महिलायें आगे हैं। उन्होंने कहा कि खेल में भी कैरियर की अपार संभावनाएं हैं। छात्राएं विश्वविद्यालय की भविष्य हैं। शैक्षणिक, सामाजिक और सांस्कृतिक क्षेत्रों में छात्राएं अपनी भागीदारी ईमानदारी पूर्वक निभाएं। खेल को खेल भावना से खेलने की जरूरत है। कुलपति ने कहा कि मेरा प्रयास शुरू से ही रहा था कि एसएम कॉलेज में बीपीएससी से नियुक्त शिक्षकों की अधिक संख्या में पोस्टिंग हो ताकि प्रीमियर महिला कॉलेज में पठन - पाठन का माहौल और भी बेहतर हो सके। उन्होंने कहा कि खेल राष्ट्र और मनुष्य को एकसूत्र में जोड़ता है। स्वस्थ्य शरीर का निर्माण खेलकूद और सांस्कृतिक गतिविधियों से ही होता है। शरीर स्वस्थ रहेगा तो दिमाग भी उतना ही स्वस्थ रहेगा। दोनों में समन्वय जरूरी है। छात्राएं अपनी पसंद और रुचि के मुताबिक ही गेम का चयन करें। असफलता से कभी नहीं घबरायें बल्कि उस दिशा में लगातार प्रयास करते रहें। सफलता एक न एक दिन जरूर मिलेगी। प्रतिकुलपति डॉ रामयतन प्रसाद ने कहा कि खेलकूद मानव के सर्वांगीण विकास और स्वस्थ शरीर के लिए आवश्यक है। खेल से व्यक्ति का शारीरिक और मानसिक विकास होता है। पढ़ाई के साथ - साथ खेलकूद भी जरूरी है। अतिथियों का स्वागत एसएम कॉलेज की प्राचार्या डॉ अर्चना ठाकुर ने किया। प्राचार्या ने कहा कि महाविद्यालय में प्रतिवर्ष वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता का आयोजन होता है। छात्राएं इस प्रतियोगिता में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेती हैं। शिक्षकों और छात्राओं के कठिन मेहनत और समर्पण के चलते आज यह महाविद्यालय विश्वविद्यालय का सिरमौर है। प्राचार्या ने कहा कि खेल को टीम भावना से खेलना चाहिए। उन्होंने कुलपति, प्रतिकुलपति, एफए, सिटी डीएसपी सहित सभी आगत अतिथियों का स्वागत अंग वस्त्र और फूल का पौधा भेंट कर किया। मंच संचालन डॉ तबस्सुम परवीन और डॉ आशा तिवारी ओझा संयुक्त रूप से कर रही थी। कार्यक्रम की शुरुआत खिलाड़ियों के मार्च पास्ट से हुआ। कुलपति ने कुलध्वजारोहन किया। वहीं, स्पोर्ट्स फ्लैग को भी फहराया गया। आसमान में रंग बिरंगे बैलून भी उड़ाए गए। खिलाड़ियों को अनुशासन और खेल भावना के लिए सामूहिक शपथ भी दिलाया गया। संगीत विभाग की छात्राओं ने कुलगीत की प्रस्तुति दी। छात्राओं ने कराटे का भी हैरतअंगेज प्रदर्शन किया। कराटे ट्रेनर मो. मुख्तार आलम के निर्देशन में छात्राओं ने पंच किक, ब्लॉक किक, किक, सेल्फ डिफेंस और ब्रेकिंग आदि के करतब दिखाए। छात्राओं ने एक साथ कई ईंट को अपने हाथों से एक झटके में तोड़कर सबको अचंभित कर दिया। सर पर भी ईंट रखकर उसे एक ही बार मे तोड़ डाला। मौके पर महाविद्यालय के शिक्षकों और कर्मियों ने भी प्रतियोगिता में अपने जौहर दिखाए। सीनियर और जूनियर शिक्षकों के बीच रस्साकशी खेल में सीनियर ने बाजी मारी। धन्यवाद ज्ञापन महाविद्यालय क्रीड़ा परिषद की अध्यक्ष डॉ नीलम महतों ने की। सभी खेलों का संयोजन पीटीआई  सुधांश कुमार ने किया। कार्यक्रम में विवि के एफए डॉ पद्मकान्त झा, डॉ सुनील कुमार चौधरी, डॉ रमेश राय, डॉ बुन्नु चौधरी, सिटी डीएसपी राजवंश सिंह, डॉ गायत्री देवी, डॉ शिवानी, डॉ मुकेश सिंह, डॉ राजीव सिंह, डॉ विनय झा, प्रो. माला सिन्हा, डॉ रीता सिन्हा, डॉ अनुराधा प्रसाद, डॉ मनोरमा सिंह, डॉ अंजू कुमारी, डॉ सुनील तिवारी, डॉ नीलम कुमारी, डॉ दीपक कुमार दिनकर, डॉ मिथलेश तिवारी, दीपक कुमार वर्मा सहित सभी विभागों के शिक्षक एवं बड़ी संख्या में छात्राएं मौजूद थे। 
Share on Google Plus

About Bijay shankar

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment