Rewari News : 12वीं के बाद पत्रकारिता और जनसंचार में कैरियर बनाने के पर्याप्त अवसर : मुकुट अग्रवाल

ग्राम समाचार न्यूज : रेवाड़ी : तेज़ी से बदलते समाज में सही सूचना सही समय पर मिलना लोकतंत्र को मजबूती देता है। इसी विश्वास के साथ लोकतंत्र के तीनों स्तंभों को संबल देने वाले सबसे महत्वपूर्ण स्तंभ पत्रकारिता के पाठ्यक्रम की शुरुआत दक्षिणी हरियाणा में करने का गौरव के.एल.पी. कॉलेज को प्राप्त होता है। जिला मुख्यालय में स्थित यह महाविद्यालय इस विधा के विद्यार्थियों के लिए संजीवनी स्वरूप है। शिक्षण के सभी आयामों को भली-भांति समझने के लिए उपयुक्त माहौल में मार्गदर्शन का इस प्रांगण में होना इस महाविद्यालय की सबसे बड़ी उपलब्धि है। 



पत्रकारिता और जनसंचार के असिस्टेंट प्रोफेसर मुकुट अग्रवाल ने इस जॉब ओरिएंटेड कोर्स के बारे में बताया कि के.एल.पी. कॉलेज में 2011 से शुरू हुए इस तीन वर्षीय स्नातक कोर्स में अध्ययन कर चुके अनेक विद्यार्थी आज अनेक सरकारी व गैर-सरकारी मीडिया-संस्थानों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं और प्रभावशाली कार्य कर रहे हैं।



उन्होने बताया कि पत्रकारिता ऐसा क्षेत्र हैं जिसमें युवाओं के लिए रोजगार की कमी नहीं हैं। इसलिए युवाओं का सामान्य कोर्स की बजाए पत्रकारिता जैसे प्रोफेशनल कोर्स की ओर ज्यादा रूझान हो गया है। यह करियर के साथ-साथ अभिव्यक्ति का बेहतर माध्यम भी है। वर्तमान में समाचार-पत्रों व न्यूज चैनलों की बढ़ती संख्या से युवाओं के लिए रोजगार की संभावनाएं बहुत ज्यादा हो गई हैं। जोश और जज्बा रखने वाले युवाओं के लिए पत्रकारिता में सुनहरा भविष्य है। मीडिया हर व्यक्ति से जुड़ा सशक्त माध्यम है। सीबीएसई के स्कूलों में मास मीडिया को एक विषय के रूप में पढ़ाया जा रहा है। प्रदेश के काॅलेजों और सभी विश्वविद्यालयों में भी यह विषय पढ़ाया जा रहा है। इसलिए अब इस क्षेत्र में शिक्षकों की भी मांग बढ़ गई है। इस कोर्स को करने वाले के लिए भविष्य में रोजगार की अनेक संभावनाए हैं।



चाहे हम विकिपीडिया, वर्ल्ड ऑफ वारक्राफ्ट, फेसबुक या ट्विटर, इंस्टाग्राम, व्हाट्सएप, ब्लाॅग लेखन देखें, हमें मीडिया के विविध रूप दिखाई देंगे, जो अपने आप में रोजगार की अनंत संभावनाएं  समेटे हुए हैं।

आज भारत में पत्रकारिता के क्षेत्र में मृणाल पांडे, विमला पाटील, बरखा दत्त, सीमा मुस्तफा, तवलीन सिंह, मीनल बहोल, सत्या शरण, दीना वकील, सुनीता ऐरन, कुमुद संघवी चावरे, स्वेता सिंह, पूर्णिमा मिश्रा, मीमांसा मल्लिक, अंजना ओम कश्यप, नेहा बाथम, मिनाक्षी कंडवाल आदि कुछ महिला पत्रकार भी हैं जो लड़कियों के लिए प्रेरणा का स्रोत बनी हुई है।

पत्रकारिता आधुनिक सभ्यता का एक प्रमुख व्यवसाय है जिसमें समाचारों का एकत्रीकरण, लिखना, जानकारी एकत्रित करके पहुँचाना, सम्पादित करना और सम्यक प्रस्तुतीकरण आदि सम्मिलित हैं। आज के युग में अखबार, पत्रिकायें, रेडियो, दूरदर्शन, वेब-पत्रकारिता आदि  पत्रकारिता के स्रोत मौजूद हैं।

ग्रामीण पत्रकारिता, व्याख्यात्मक पत्रकारिता, विकास पत्रकारिता, संदर्भ पत्रकारिता, संसदीय पत्रकारिता, रेडियो पत्रकारिता, दूरदर्शन पत्रकारिता, फोटो पत्रकारिता, विधि पत्रकारिता, अंतरिक्ष पत्रकारिता, चित्रपट पत्रकारिता आदि अनेक आयामों में पत्रकारिता के अवसर  उपलब्ध हैं।

अच्छे पत्रकार में मनोवैज्ञानिक, वकील, कुशल लेखक, वक्ता और गुप्तचर के गुणों का समावेश होना चाहिए। तभी वह एक घटना में समाचार का बोध कर उसे जनता के समक्ष ला पाता है। पत्रकारिता के क्षेत्र में एक सफल करियर के रूप में किसी भी व्यक्ति को जिज्ञासु व दृढ़ इच्छाशक्ति वाला, सूचना को वास्तविक, संक्षिप्त तथा प्रभावी रूप में प्रस्तुत करने की अभिरुचि रखने वाला, किसी के विचारों को सुव्यवस्थित करने तथा उन्हें भाषा तथा लिखित दोनों रूपों में स्पष्ट रूप से अभिव्यक्त करने में कुशल होना आवश्यक है।

दूरदर्शन, रेडियो, श्रव्य, दृश्य (ऑडियो, वीडियो) और वेब जैसे इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ने दूर -दराज के स्थानों में समाचार, मनोरंजन एवं सूचनाएं पहुंचाने का कार्य किया है। वेब में, कुशल व्यक्तियों को वेब समाचार पत्रों के लिए नियुक्त किया जाता है और इनमें प्रिंट संस्करण नहीं होते और लोक प्रिय समाचारपत्रों तथा पत्रिकाओं को जिनके अपने वेब संस्करण होते हैं, साइट रखनी होती है। इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता में कोई भी व्यक्ति रिपोर्टर, लेखक, सम्पादक, अनुसंधानकर्ता, संवाददाता और एंकर बन सकता है।



पत्रकारिता और जनसंचार विभाग की समन्वयक डॉ. ऋचा शर्मा ने बताया कि जनसम्पर्क एक प्रतिष्ठित पेशे और व्यवसाय के रूप में दुनियाभर मे स्थापित हो चुका है। आज व्हाईट हाउस से लेकर, प्राक्टर एंड गैंबल, प्रजापति ब्रह्मकुमारी मुख्यालय और कलक्ट्रेट कार्यालय सभी जगह जनसंपर्क विंग विद्यमान है। वर्तमान समय की चुनौतियां जैसे जलवायु परिवर्तन, एड्स, गरीबी और अशिक्षा के प्रति लोगों को जागरुक करने और इसके बारे में व्यापक जनमत तैयार करने में जनसम्पर्क बड़ी भूमिका निभा सकती है। जनसंपर्क के क्षेत्र में भी रोजगार की संभावनाएं हैं। जनसंपर्क पाठ्यक्रम को पूरा करने के बाद छोटे-बड़े संस्थानों, कॉर्पोरेशन, बैंक, होटल, स्कूल, कॉलेज, सरकारी व गैर सरकारी विभागों, निगमों, विश्वविद्यालयों में बतौर जनसंपर्क अधिकारी, सहायक सूचना जनसंपर्क अधिकारी के नौकरी की जा सकती है।

तेज़ी से बढ़ते न्यूज़ चैंनलों के समय में न्यूज़ एंकर बनने के लिए पत्रकारिता का कोर्स उपयुक्त कैरियर ट्रेनिंग देता है। साथ ही इस से जुड़ी आर.जे., फोटोग्राफर, कंटेंट राइटर, रिपोर्टर जैसी नौकरियां युवाओं की पहली पसंद बन गयी हैं। जरूरत है कि मीडिया अध्ययन का विद्यार्थी संचार कौशल, आईटी टूल्स तथा डिजिटल कौशल में महारत हासिल करे।

के.एल.पी. कॉलेज के प्राचार्य डॉ. अभय सिंह ने गत 11 वर्षों से कॉलेज में चल रहे इस जॉब ओरिएंटेड कोर्स के बारे में बताया कि तीन वर्ष में विद्यार्थी विभिन्न प्रकार की शैक्षणिक, बौद्धिक व तकनीकी कुशलताओं का अभ्यास करते हैं, ताकि जब कॉलेज से बाहर व्यवहारिक रूप से मीडिया के क्षेत्र में काम करें तो वहाँ अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर सकें। जिसमें विशेष रूप से कैमरे का संचालन, कंप्यूटर पर हिंदी व अंग्रेजी टाइपिंग का अभ्यास, विभिन्न टाइपिंग व डिजाइनिंग सॉफ्टवेयर में सिद्धहस्त होने के लिए उचित मार्गदर्शन मिलता है। 

लेखन, वाचन और क्रियान्वयन पर आधारित मीडिया से संबंधित विभिन्न प्रकार के सेमिनार, कार्यशालाएँ और अभ्यास सत्र नियमित रूप से आयोजित किए जाते हैं जिसमें बाहर से भी विशेष व्याख्यान के लिए विशेषज्ञों को आमंत्रित किया जाता है। इसी के साथ मीडिया के भावी कर्णधारों को समाचार-पत्र व मीडिया-चैनल के स्टूडियो, कार्यालयों में शैक्षणिक भ्रमण के लिए भी समय-समय पर ले जाया जाता है ताकि वे अपने अध्ययन काल में ही उन चीजों को समझ सकें जो बाद में उनके समक्ष आनी है।




महाविद्यालय प्रबंध कारिणी के अध्यक्ष अमित गुप्ता ने बताया कि पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए इस बार प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक दोनों माध्यमों के लिए क्रमशः मुद्रण व प्रसारण की समुचित नियमित व्यवस्था की जा रही है; ताकि पत्रकारिता और जनसंचार विभाग के विद्यार्थी अपनी लेखन, वाचन व प्रस्तुतीकरण की कला का दूर तक प्रचार प्रसार कर सके और इसमें पारंगत हो देश व समाज के लिए आदर्श उदाहरण बन सके।

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education