Godda News: कुड़मी समाज ने बंधु तिर्की का पुतला दहन किया


ग्राम समाचार, गोड्डा ब्यूरो रिपोर्ट:-  सोमवार की संध्या कांग्रेस नेता व विधायक बंधु तिर्की द्वारा जारी व्यान "कुड़मि का एस टी मांग गलत" के विरुद्ध अखिल भारतीय आदिवासी कुड़मि महासभा ने चानकु महतो चौक रंगमटिया गोड्डा में पुतला जलाया और बंधु तिर्की मुर्दाबाद व आदिवासियों के बीच फुट डालना बंद करो आदि नारे लगाए। मौके पर मौजूद कुड़मि महासभा के संस्थापक सदस्य संजीव कुमार महतो ने बताया कि कांग्रेस नेता विधायक बंधु तिर्की ने गलत बयानी किया है ।



ऐतिहासिक दस्तावेजों में झारखंड का सबसे पुराना आदिवासी कुड़मि है| अगर भारत सरकार भुल नहीं करती तो भारत के प्रथम एस टी सुची में कुड़मि होता। आज भी एस टी छोड़कर आदिवासियों को मिलने वाला सारा कानूनी हक अधिकार कुड़मी को समान रूप से प्राप्त है। यहां तक कि भारतीय विवाह और उत्तराधिकार अधिनियम में भी कुड़मि आदिवासी हैं और सभी कार्यालयों व न्यायालयों में आदिवासियों के समान ही व्यवहृत होते हैं। भारत में जितने भी धार्मिक जातिगत जनगणना हुआ है सभी में कुड़मि का गणना आदिवासियों के श्रेणी में ही किया गया है। कांग्रेस नेता बंधु तिर्की जी उलूल जलूल बकने के आदि हैं लेकिन इस बार इन्होंने कुड़मि समुदाय को लक्ष्य करके गलत बयानी किया है इसका खामियाजा उनको उनके कांग्रेस पार्टी को भुगतना पड़ेगा क्योंकि अबतक कांग्रेस पार्टी के तरफ से उनके गलत बयानी पर स्पष्टिकरण जारी नहीं किया इसलिए कुड़मि समाज ये मानने पर विवश है कि कांग्रेस नेता बंधु के बयान को कांग्रेस भी सही मान रही इसलिए चुप है। समाज आने वाले समय में इसका माकुल जवाब देगा। विरोध प्रदर्शन में मुख्य रूप से संजीव महतो के साथ साथ दशरथ महतो, दयानंद महतो, गौतम महतो, प्रदीप महतो, विजय महतो, विवेक महतो, आह्लाद महतो,संदीप महतो, प्रदीप महतो,विजय महतो, मिथुन महतो, अमित महतो, पप्पु महतो, पिंकू महतो, मदन महतो, रमेश महतो, आशीष महतो,मनोहर महतो, कुंदन महतो, मदन महतो, मुन्ना , राजू, भीम महतो आदि उपस्थित थे।

Share on Google Plus

Editor - भूपेन्द्र कुमार चौबे

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education