Chandan News: बिहार में बाल श्रम का बढ़ता जा रहा ग्राफ- दलित मुक्ति मिशन डायरेक्टर महेंद्र कुमार रौशन

ग्राम समाचार,चांदन,बांका। प्रखंड क्षेत्र के ज्ञान भवन करवामारन कोविड-19 पहल अभियान, बिहार दलित विकास समिति, लोकमंच, दलित मुक्ति मिशन के संयुक्त तत्वावधान में अनलॉकडाउन शर्त पालन करते हुए विश्व बाल श्रम दिवस पर बाल संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर बच्चों एवं अभिभावक के संवाद करते हुए दलित मुक्ति मिशन के निदेशक महेंद्र कुमार रौशन ने बताया कि, कोविड-19 जैसे वैश्विक महामारी से एक तरफ पूरा विश्व त्राहिमाम है। बेरोजगारी, भुखमरी का आलम है। आने वाला समय और भयानक हो सकती है। इस कोरोना महामारी में सबसे ज्यादा गरीब, दलित, वंचित, 

अभावग्रस्त तथा हाशिये के लोग विशेषकर उनके बच्चों पर ज्यादा प्रभाव डाल सकती है। मालूम हो कि, प्रत्येक वर्ष 12 जून को विश्व बाल श्रम निषेध दिवस मनाया जाता है, जिसकी शुरूआत वर्ष 2002 में " द इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन" ने किया था। बाल श्रम को खत्म करने के तमाम काम किये जा रहे हैं, वहीं कोविड 19 से गरीबी बढ़ने के साथ बाल श्रम के आकड़े बढ़ने का आसार है। एक रिपोर्ट के अनुसार बिहार में 2011 जनगणना के अनुसार लगभग 11 लाख बच्चे बाल श्रम के शिकार हैं। अगर प्रतिशत की बात करें तो बिहार में 5-14 वर्ष आयु के बाल श्रमिकों की संख्या 10.7 फीसदी है। इस आयु वर्ग के 4.5 लाख बच्चे मुख्य श्रमिकों की श्रेणी में आती है और लगभग 6.3 लाख बच्चे सीमान्त श्रमिकों की श्रेणी में हैं। समाज कल्याण एवं श्रम संसाधन विभाग बिहार से प्राप्त आंकड़े के अनुसार 2015 से 2019 के बीच राजस्थान, महाराष्ट्र, 

तेलंगाना, बंगाल, गुजरात, पंजाब,जैसे विभिन्न राज्यों से बाल श्रम से मुक्त कराये गये बच्चों में गया के 525, नालंदा के 385, सीतामढ़ी 125, पूर्वी चंपारण के 329 तथा अड़रिया 65 बच्चे रहे हैं। इस अवसर पर सामाजिक कार्यकर्ता सुनीता देवी, विसुंदेव दास, सुमन कुमार, टिंकू कुमार रानी शर्मा विकास कुमार आदि अन्य लोगों बाल अधिकार के बारे में विस्तार से बताया। कार्यक्रम में करवामारन के नीलम कुमारी, मोनिका कुमारी, निशा कुमारी, प्रिया कुमारी, सुरेंद्र कुमार पुरुषोत्तम कुमार तथा करन कुमार ने बाल अधिकार को बोलकर सुनाया। जैसे-भोजन का अधिकार, शिक्षा पाने का अधिकार, खेल और आराम करने का अधिकार, देखभाल व संरक्षण का अधिकार, परिवार में रहने एवं आवास का अधिकार, बच्चों को शारिरिक मानशिक और आर्थिक शोषण से सुरक्षा पाने अधिकार आदि। अभीयान को आगे बढ़ाने के संकल्प लिया। 

उमाकांत साह,ग्राम समाचार संवाददाता,चांदन।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education