expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Online Education


Jamtara News: टीके ग्राम के फलदार वृक्षों की नहीं हुई नीलामी


ग्राम समाचार, ब्यूरो रिपोर्ट जामताड़ा:
 

गोविन्दपुर- साहेबगंज हाइवे पथ के किनारे जिले के फतेहपुर प्रखंड अंतर्गत टीके ग्राम खजुरिया स्थित संथाल परगना सेवा मंडल संस्था के अंतर्गत  63 एकड़ जमीन पर कृषि फर्म मे सैकड़ो फलदार पेड़ लगे हैं। यह संस्था पिछले कई वर्षों से बंद पड़ा हुआ है जिसका मामला देवघर न्यायालय में विचारधिन है।गौरी शंकर डालमिया संस्था के प्रमुख रहे हैं जिन्होंने 1948 ईस्वी से लेकर 1955 के  दरमियान खिजुरिया के ग्रामीणों से जमीन दान में लेकर संस्था को शुरू किया था । संस्था का स्थापना प्रख्यात स्वन्त्रता सेनानी गांधी वादी नेता ठक्कर  बप्पा  ने मुख्य रूप से कुष्ठ बीमारी का बेहतर इलाज किया जाता था।  खिजुरिया एवं फतेहपुर प्रखंड क्षेत्र के ग्रामीणों को संस्था द्वारा शिक्षा, स्वस्थ एवं रोजगार का संपूर्ण लाभ दिए जाते थे 90 के दशक में गौरी शंकर डालमियां का निधन हो गया । जिसके बाद भी 1996 तक संस्था चलता रहा संस्था के सदस्यों में आपसी विवाद को लेकर देवघर न्यायालय में मामला दर्ज किया गया ,जिसके कारण आज तक यह संस्था इसी तरह बंद पड़ा हुआ है खिजुरिया ग्रामीणों अनुसार संस्था करीब 63 एकड़ जमीन पर फैला हुआ है कई किस्म के फलदार वृक्ष हैं सबसे ज्यादा फलों का राजा आम का वृक्ष है ,यहां के बगीचे मे कई नस्ल के आम पाए जाते हैं,बगीचे में ढाई सौ से अधिक  की संख्या में  आम के पेड़ लगे हैं । संथाल परगना सेवा मंडल नामक संस्था की देख रेख देवघर के उपायुक्त ने वर्षों से करते आ रहे हैं ।संस्था की जमीन एवं आम के बगीचे का प्रत्येक वर्ष डाक एवं नीलामी की बोली लगाई जाती है ।प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष निलामी प्रतिक्रिया नहीं की गई है।संथाल परगना सेवा मंडल का यह बगीचा एवं खेती योग्य जमीन अभी भी डाक एवं निलामी के इंतजार में है।

    


Share on Google Plus

Editor - विवेक आनंद, जामताड़ा (झारखंड).

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें