expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Rewari News : परिवार पहचान पत्र के सन्दर्भ में एडीसी राहुल हुड्डा ने समीक्षा बैठक की

रेवाड़ी, 23 फरवरी। एडीसी राहुल हुडडा ने कहा कि राज्य सरकार के 38 विभागों की 500 से ज्यादा सेवाओं व योजनाओं को परिवार पहचान पत्र द्वारा दी गई फैमिली आईडी से जोड़ा गया है। अब इन योजनाओं व सेवाओं के अंतर्गत मिलने वाले लाभ और सब्सिडी आदि परिवार पहचान पत्र के तहत दी गई यूनीक फैमिली आईडी के माध्यम से प्रदान किए जा सकते हैं।



एडीसी परिवार पहचान के संबंध में आज जिला सचिवालय में विभिन्न विभागों के अधिकारियों की समीक्षा बैठक ले रहे थे। एडीसी ने कहा कि परिवार पहचान पत्र के कार्य में नगर परिषद रेवाडी व नगर पालिका धारूहेडा की प्रगति में सुधार लाने की आवश्यकता है। एडीसी ने बताया कि सरकार की ओर से दी जाने वाली सेवाओं तथा योजनाओं का लाभ लेनेे के लिए अब फैमिली आईडी मांगी जा सकती है, इसलिए सभी के लिए परिवार पहचान पत्र बनवाकर अपनी फैमिली आईडी बनवाना जरूरी है।
परिवार पहचान पत्र (पीपीपी) के नोडल अधिकारी एवं अतिरिक्त उपायुक्त राहुल हुड्डïा ने बताया कि जिला में फैमिली आईडी बनाने के लिए परिवार पहचान पत्र का डाटा अपडेट व वैरिफाई करने का कार्य चल रहा है। उन्होंने बताया कि अब तक रेवाड़ी जिला के 2 लाख 54 हजार 314 परिवारों में से 2 लाख 12 हजार 229 परिवारों का डाटा अपडेट हो चुका है, जिनमें से एक लाख 61 हजार 333 परिवार साईन्ड हो चुके है। उन्होंने बताया कि जिले में 83.45 प्रतिशत परिवार अपडेट हो चुके है।
  जिला नागरिक संसाधन सूचना अधिकारी एवं एडीसी राहुल हुड्डïा बताया कि प्रत्येक परिवार को 8 अंको की परिवार पहचान आईडी प्रदान की जा रही है। फैमिली डाटा के ऑटोमैटिक अपडेशन को सुनिश्चित करने के लिए फैमिली आईडी को जन्म और मृत्य व मैरिज रिकार्ड से जोड़ा जाएगा। उन्होंने बताया कि वृद्धावस्था, विधवा और दिव्यांग पैंशन के लिए अब केंद्र व प्रदेश सरकार ने परिवार पहचान पत्र का होना अनिवार्य कर दिया गया है। इसके अलावा फैमिली आईडी छात्रवृति, सब्सिडी और अन्य पैंशन जैसी सभी मौजूदा स्वतंत्र योजनाओं को जोड़ेगी ताकि स्थिरता और विश्वसनीयता सुनिश्चित हो सके तथा साथ ही विभिन्न योजनाओं, सेवाओं, सब्सिडी और पैंशन के लाभार्थियों के स्वत: चयन को सक्षम किया जा सके।
  एडीसी राहुल हुड्डïा ने जिलावासियों से आह्वान किया कि वे परिवार पहचान पत्र बनवाएं और जिन्होंने पहचान पत्र बनवाए हुए हैं वे नजदीकी सीएससी सैंटर पर जाकर उसे अपडेट करा सकते हैं। उन्होंने बताया कि आमजन की सुविधा के लिए परिवार पहचान पत्र (पीपीपी) में कोई अपडेट व नया परिवार पहचान पत्र (पीपीपी) बनवाने के लिए सीएससी सैंटर में सरकार की ओर से यह सेवा प्रदान की जा रही है। उन्होंने कहा कि परिवार पहचान पत्र आईडी बनाने एवं अपडेट उपरांत जो फार्म दिया जाता है उस पर अपने हस्ताक्षर अवश्य करें व सीएससी, वीएलई को प्रस्तुत करें। उन्होंने बताया कि परिवार के लोग स्वयं भी अपने डाटा को अपडेट कर सकते हैं। इसके लिए उन्हें  द्धह्लह्लश्चह्य://द्वद्गह्म्ड्डश्चड्डह्म्द्ब1ड्डह्म्.द्धड्डह्म्4ड्डठ्ठड्ड.द्दश1.द्बठ्ठ पर जाना होगा।

  बैठक में एसडीएम कोसली कुशल कटारिया, एसडीएम बावल मनोज कुमार, डीआरओ विजय यादव, डीडीपीओ हरी प्रसाद बंसल, तहसीलदार रेवाडी प्रदीप देशवाल, तहसीलदार बावल मनमोहन, तहसीलदार कोसली जितेन्द्र कुमार, नायब तहसीलदार रवि कुमार, कृष्ण कुमार, अस्तित्व परासर, सौरव शर्मा, अरूणा कुमार, निशा व अजय कुमार, एडीआईओ सुनील कुमार भी उपस्थित रहें।
Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें