expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Pathargama News: अनुमंडल पदाधिकारी गोड्डा के निर्देश पर विवादित बेल्टिकरी पोखरा में मछली माही शुरू की गई

 



ग्राम समाचार, पथरगामाः- अनुमंडल पदाधिकारी गोड्डा के निर्देशानुसार दाग नंबर 141 पर स्थित बेल्टिकरी का अति विवादित पोखरा से मछली माही की शुरुआत हुई।मछली माही 18 दिसंबर तक चलेगा।अनुमंडल पदाधिकारी के द्वारा मछली माही सुबह 9:00 बजे से संध्या 3:00 बजे तक निर्धारित किया गया है।मछली माही का अधिकार सिर्फ मछुआ सोसाइटी लिमिटेड के लोगो को ही दिया गया है।मछली माही के लिए पुलिस निरीक्षक बलवीर सिंह तथा थाना प्रभारी बलराम रावत एवं अवर निरीक्षक चंद्रशेखर सिंह और भारी पुरुष पुलिस बल और महिला पुलिस बल के साथ प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी प्रखंड सहकारिता प्रसार पदाधिकारी आशुतोष अंबष्ट और अंचल निरीक्षक के चंदेश्वरी मेहरा की मौजूदगी में मछली माही की गई।मालूम हो कि मछली माही के दौरान यूनुस और अखलाक गुट के आपसी विवाद के चलते मछली माही के दौरान विधि व्यवस्था हाथ में लेकर मछुआ सोसाइटी की मछली को लूट लिया जाता रहा था।कुछ माह पूर्व भी ऐसी घटना को दोहराई गई थी को संज्ञान में लेते हुए अनुमंडल पदाधिकारी ने मोहम्मद यूनुस और मोहम्मद अखलाक तथा गांव वाले को मछली माही के दौरान उपस्थिति पर रोक लगा दी गई है।आज पहले दिन हुई मछली माही में लगभग 3 क्विंटल मछली माही हुई।मछली माही के बाद स्थल पर ही लगभग ढाई क्विंटल मछली बिक गई।


 मालूम हो कि मछली माही के दौरान अनुमंडल पदाधिकारी गोड्डा के आदेशों की अक्षरसः पालन नहीं की गई इस बारे में मछली सोसाइटी लिमिटेड के अभिजीत कुमार के द्वारा कहा गया कि अनुमंडल पदाधिकारी ने यह तय किया था कि बाजार दर से 25% कम दर पर गांव वाले को मछली बेची जा सकती है परंतु ग्रामीणों ने दबाव बनाकर ₹140 किलो में ही मछली को खरीद लिया जिससे मछुआ सोसाइटी लिमिटेड को आर्थिक हानि उठानी पड़ गई।सोसायटी द्वारा बताया गया कि मार्केट दर लगभग ₹200 किलो है।25% कम करने से लगभग डेढ़ सौ रुपया किलो का हिसाब बनता है।परंतु लोगों ने दबाव बनाकर ₹140 किलो ही खरीद लिया।

-:अमन राज, पथरगामा:-


  -

Share on Google Plus

Editor - भुपेन्द्र कुमार चौबे

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें