expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Dumka News: पश्चिम बंगाल के माफिया यहां चला रहा हैं बालू का अबैध कारोबार ।मयूराक्षी नदी से कर रहा हैं बालू उठाव

ग्राम समाचार, दुमका।  मयूराक्षी नदी के नोरंगी एबं रागडीह के घाटों से बालू की अबैध उठाव कर बिहार एबं पश्चिम बंगाल के बाजार में ऊंचे दर पर बालू का अबैध कारोबार खुलेआम जारी हैं ।यहां स्थानीय बिचौलियों , कथित ग्राम प्रधान ,ग्रामसभा के अध्यक्ष, त्रिस्तरीय पंचायत के प्रतिनिधि के मिलीभगत से बीरभूम जिला के बालू कारोबारी यहा अबैध धंधा कर रहा हैं ।उन बालू कारोबारियों ने बीरभूम जिला के खनन बिभाग से उस जिला के लता पोखर, एबं केंदुली घाट का बालू उठाने का लीज लिया हैं ।रानीश्वर थाना के दिगुली, नोरंगी एबं रागडीह से सटा बीरभूम जिला के उस दोनों घाट के नाम पर यहां बालू उठाव हो रहा हैं ।अंचल अधिकारी अतुल रंजन के आदेश पर बुधबार अंचल निरीक्षक एबं अमीन ने नदीघाटो का सीमांकन किया हैं, पर बालू उठाव के अबैध कारोबार पर रोक नहीं लगा हैं ।सूत्र के अनुसार नोरंगी एबं बैधनाथपुर गांव के दो युबक के देख रेख में यहां बालू उठाब जारी हैं ।यहां बालू की अबैध उठाब कर बाहर भेजने के लिये बालू कारोबारी स्थानीय युबाओ के सहयोग से नियम के बिरुद्ध नोरंगी एबं रागडीह से महेश खाला बॉर्डर तक पांच किलो मीटर सड़क का निर्माण किया हैं ।जिसको लेकर सुखजोड़ा पंचायत के मुखिया चुप्पी साधे हुये हैं ।बताया जाता हैं कि बालू उठाव करने के लिये बीरभूम जिला के तीन बालू कारोबारी नोरंगी एबं बैधनाथपुर गांव के दोनों युबा बिचौली को पांच सौ रुपया प्रति ट्रक के दर से भुगतान करता हैं।वही रागडीह के ग्रामीणों को तीन सौ रुपया प्रति गाड़ी के दर से भुगतान करता हैं ।यहां स्थानीय बिचौली एबं कथित प्रतिनिधि के मिलीभगत से प्रतिदिन लाखो रुपये के खनन राजस्व की चोरी हो रहा हैं ।यह भी बताया गया हैं कि खनन बिभाग के अधिकारी यहां जांच करने पंहुचने पर स्थानीय बिचौली जांच का खोल कर बिरोध करता है।

गौतम चटर्जी, ग्राम समाचार, रानीश्वर (दुमका)

Share on Google Plus

Editor - केसरीनाथ यादव, दुमका

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें