expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Rewari News :

    

साथियों मैं आप लोगों से एक बात कहना चाहता हूं कि हरियाणा सरकार विशेष रूप से शिक्षा विभाग प्रतिदिन नए नए ऐप डाउनलोड करने के फरमान जारी करता है। प्रत्येक ऐप जब आप डाउनलोड करते हो तो आपसे आपकी डिवाइस को Access करने, आपकी फोटो गैलरी को Access करने, आपके फोन कॉल्स को मैनेज करने, और भी कई तरह की परमिशन आपसे लेता है। साथियों कहीं ऐसा तो नहीं कि हमारा कोई अधिकारी किन्हीं ऐसे डाटा चोरों से मिला हुआ हो जिनको यह डाटा बेच रहा है। पिछले दिनों जिस प्रकार चाइनीज ऐप्स के द्वारा आपके निजी डाटा चुरा कर के कुछ लोगों को बेच रहे थे, और उससे भी पैसे कमा रहे थे। मुझे शंका होती है हो सकता है ये व्यर्थ हो लेकिन साथियों क्या हमारा शिक्षा विभाग इतना अशिक्षित हो गया है कि एक एप भी ढंग से लांच नहीं कर सकता जिसमें हमारे सारे कार्य हो सके, ताकि किसी अन्य एप की आवश्यकता न पड़े। कभी कोई कभी कोई ऐप रोजाना इतने ऐप हो गए कि मेरे ख्याल से आप लोगों की फोन की मेमोरी फुल हो चुकी होगी, और आप भी परेशान होंगे फोन बार-बार हैंग हो जाते हैं जो आपका काम चलता था वह भी नहीं चलता है। ऐसी परिस्थितियों में हम सोचने के लिए मजबूर हैं कि हमारा जो यूनियन मैनेजमेंट है वह क्या कर रहा है इस मैटर पर अधिकारियों से बात क्यों नहीं कर रहा है। एक बार यदि कोई app लॉन्च करना है तो करें लेकिन आए दिन नए-नए ऐप नए नए फरमान ऐसा लग रहा है जैसे शिक्षा विभाग न होकर के ऐप डाउनलोड विभाग बन गया है। अतः साथियों मैं आप सभी से निवेदन करता हूं कि कृपया अपने अपने संगठन के उच्च पदाधिकारियों से इस बारे में कहें, ताकि उच्च अधिकारियों से बात करें। साथियों शिक्षा विभाग को छोड़ कर अन्य सभी विभागों में कर्मचारियों को मोाइल फोन, लैपटॉप व इंटरनेट मुफ्त प्रदान किए जाते हैं, ताकि वे समय पर अपना काम पूर्ण कर सकें। परंतु हमारा शिक्षा विभाग ही ऐसा है जो ज़िला शिक्षा अधिकारी तक को भी ये सुविधा प्रदान नहीं करता। 

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें