expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

GoddaNews: किशोरियों को प्रतीदिन लगभग 2200 कैलोरी की होती है आवश्यकता- डाॅ प्रगतिक



ग्राम समाचार गोड्डा, ब्यूरो रिपोर्ट:-    ग्रामीण विकास ट्रस्ट-कृषि विज्ञान केंद्र के तत्वावधान में बोआरीजोर प्रखंड के ग्राम बड़ा धाना बिन्दी में "राष्ट्रीय पोषण माह" के तहत "पोषण जागरूकता अभियान" कार्यक्रम आयोजित किया गया। पोषण अभियान की थीम "संतुलित भोजन, स्वस्थ जीवन" है। गृह वैज्ञानिक डाॅ0 प्रगतिका मिश्रा ने बताया कि बालिकाओं के लिए किशोरावस्था में पोषण का अत्यधिक महत्व बढ़ जाता है क्योंकि इस दौरान उनके शरीर में अनेक प्रकार के परिवर्तन होते हैं।किशोरियों को प्रतिदिन लगभग 2200 कैलोरी की आवश्यकता होती है साथ ही उनको शारीरिक व मानसिक विकास को बढ़ावा देने के लिए विटामिन, कैल्शियम, आयरन, जैसे पोषक तत्वों की जरूरत होती है। संतुलित आहार से तात्पर्य उन सभी खाद्य पदार्थों से हैं जो शरीर में जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति करें तथा खाने की मात्रा और सही समय भी बहुत जरूरी होता है। किशोरियों को कैल्शियम,विटामिन ,फाइबर तथा ऐसे जरूरी पोषक तत्व, फल सब्जियां तथा अनाज से मिल सकते हैं इससे उनका शारीरिक तथा मानसिक विकास उचित प्रकार से होता है। सब्ज़ियों का हमारे स्वस्थ जीवन में बहुत बड़ा योगदान है। सब्ज़ियों के नियमित सेवन से हमारा स्वास्थ्य तथा शरीर की आंतरिक प्रणाली मज़बूत होती है। सब्ज़ियों के उचित सेवन से हमारी पाचन शक्ति बढ़ती है। नारंगी और पीले रंग की सब्ज़ियां तथा मीठे आलू, गाजर, खुबानी ये सभी विटामिन-सी कि मात्रा से भरपूर होते हैं। जो हमारी त्वचा के विकास और सुंदरता के लिए बहुत ही लाभदायक होते हैं। लाल रंग की सब्ज़ियां जैसे टमाटर, लाल मिर्च, लाल प्याज और फल पपीता लाइकोपीन से भरपूर होते हैं जो हमारे त्वचा कि रक्षा करते हैं तथा उन्हें हानिकारक किरणों से भी बचाते हैं। पोषण थाली एवम् पोषण माला के विषय में बताया गया। पांच परिवार को न्यूनतम आवश्यक सब्जी एवं स्थानीय फलों की प्राप्ति हेतु पोषण वाटिका माॅडल को गांव में स्थापित करने के लिए प्रेरित किया गया। कृषि प्रसार वैज्ञानिक डाॅ0 रितेश दुबे ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्र में किचन गार्डेन में उगने वाली मौसमी सब्जियां जैसे चुकंदर, मूली, बैंगन, गोभी, टमाटर, सहजन आदि लगा कर परिवार के पोषण पर ध्यान दिया जा सकता है। महिलाओं व किशोरियों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए हीमोग्लोबीन का बहुत महत्व है। इसकी कमी से शरीर का स्वास्थ्य गिरता है। इसकी पूर्ति के लिए टमाटर, केला, मूंगफली, मछली व हरे पत्तेदार साग सब्जी का प्रयोग करना चाहिए। सस्य वैज्ञानिक डाॅ0 अमितेश कुमार सिंह बताया कि चौलाई खाने से भूख बढ़ती है तथा कब्ज व पेट की समस्या दूर होती है। चौलाई का नियमित सेवन खून में आयरन की बढ़ोतरी करता है। हाथ, पैर व तलवों में जलन होने पर इसके रस में थोड़ी शक्कर मिलाकर पीने से लाभ मिलता है और आंखों के लिए फायदेमंद है। 

कार्यक्रम के अन्त में अमरूद के पौधे वितरित किया गया। पूजा कुमारी, प्रिया कुमारी, राधिका कुमारी, हिना कुमारी, निशु कुमारी, सरिता देवी, मुन्नी देवी, संझली हांसदा ,पकू टुडू, कोमली मुर्मू समेत 50 किशोरी एवं महिला किसान पोषण जागरूकता अभियान कार्यक्रम में सम्मिलित हुईं।


Share on Google Plus

Editor - भुपेन्द्र कुमार चौबे

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें