expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Dumka News:भूमाफिया कर रहे सरकारी जमीन पर अबैध कब्जा

पाटजोड़ के प्राथमिक स्वास्थ्य उपकेंद्र झाड़ी जंगल मे तब्दील 
ग्राम समाचार, दुमका। संथाल परगना काश्तकरी कानून के संरक्षक के मिली भगत से भूमाफिया सरकारी जमीन पर अबैध कब्जा कर रहा है। यहां के गोचर जमीन, मुख्य पथ के जमीन एक साथ विभिन्न विभाग के सरकारी जमीन पर भूमाफिया कब्जा कर लिया है। सरकारी जमीन का गलत ढंग से सत्यापन करा कर भूमाफिया पीएम आबास का निर्माण करा रहा है । प्राथमिक स्वास्थ्य उप केंद्र के जमीन पर भूमाफिया कब्जा कर लिया है । यहां मौजा पाटजोड़ के दाग संख्या 213, 214,215,   216 ,248 ,249,250 के एक बीघा दस कठा तैतीस धूल जमीन अस्पताल का जमीन है। बर्ष 1960 में गांव के पूर्ण दास घोष एबं भुटू ढेकार ने यहां विकास परियोजना के तहत अस्पताल निर्माण हेतु बिहार सरकार को निबंधित केबाला द्वारा जमीन स्थानांतरित कर दिया है । उस जमीन पर परियोजना के तहत अस्पताल बना है। बाद में ग्राम्य अभियंत्रण संगठन के माध्यम से बुनियादी स्वास्थ्य कार्यकर्ता, ए एन एम एवं चतुर्थ बर्ग के कर्मचारी का आवास बनाया गया हैं ।जानकारी के अनुसार यहां अस्पताल के सरकारी जमीन पर गांव के फटिक ढेकार, माया ढेकार, जाना राय, माना राय ने जबरन अबैध कब्जा कर लिया हैं । साथ ही अस्पताल परिसर में कचरे का ढेर बना दिया हैं, जिसके कारण यहां रोगियों को अस्पताल आने जाने काफी परेशानी होती हैं।गांव के सुकुमार घोष ने बताया है कि बिहार के राज्यपाल के नाम पर स्थानांतरित उस जमीन पर भूमाफिया प्रधानमंत्री आवास निर्माण शुरू कर दिया हैं। प्रखंड विकास पदाधिकारी ज्ञानेन्द्र कुमार को लिखित सूचना देकर यहां अस्पताल के जमीन पर पीएम आवास निर्माण पर रोक लगाने का अनुरोध किया है ।पर किसी अदृश्य शक्ति के इशारे यहां अबैध अतिक्रमण कर आबास निर्माण जारी हैं । इस संबंध में अंचल अधिकारी से पूछने पर बताया हैं, कि किसी ने लिखित सूचना नही दिया हैं।

गौतम चटर्जी, ग्राम समाचार, रानीश्वर(दुमका)

Share on Google Plus

Editor - केसरीनाथ यादव, दुमका

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें