expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Pakur News: महेशपुर के क्वारेंटाइन सेंटर में पिता पुत्र कोरोना के दो संक्रमित मरीज मिले, क्षेत्र में डर का माहौल

ग्राम समाचार, पाकुड़। जिले में कोरोना वायरस का संक्रमण लगातार बढ़ते जा रहा है। वही शुक्रवार को महेशपुर प्रखंड में भी दो कोरोना पॉजिटिव की पुष्टि हुई है। दोनों मरीज पिता पुत्र है। मिली जानकारी के अनुसार महेशपुर प्रखंड के शिवरामपुर पंचायत अंतर्गत चंद्रपूरा निवासी हैं। दोनों प्रखंड मुख्यालय स्थित कल्याण छात्रावास परिसर में  आईटीआई भवन में बनाए गए क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया था। दोनों मरीज बीते 4 जुलाई को पश्चिम बंगाल के सियालदह (कोलकाता) से लौटे थे। कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग की ओर से एहतियात बरतते हुए दोनों मरीजों को कोविड-19 मैनेजमेंट हॉस्पिटल रिंची लिट्टीपाड़ा में आइसोलेट की गई है। बताया जा रहा है कि दोनों पिता पुत्र बीते 4 जुलाई को पश्चिम बंगाल के सियालदह से महेशपुर प्रखंड के चंद्रपूरा गांव अपना घर आ रहा था। जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग के टीम ने थर्मल स्क्रीनिंग के बाद दोनों मरीजों को प्रखंड के आईटीआई भवन में बनाये गये क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया था। वही बीते 14 जुलाई को 16 व्यक्तियों का कोरोना जांच किया गया था। तीन दिन बाद शुक्रवार की सुबह जांच रिपोर्ट आयी। जिसमें 14 नेगेटिव तथा 2 पॉजिटिव रिपोर्ट आयी है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आज सुबह नास्ता करने के क्रम में मौका पाकर दोनों पिता, पुत्र ने फोन पर ई-रिक्शा बुलाकर क्वारंटाइन सेंटर से भाग निकला। वही प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी बादल कुमार को क्वारंटाइन सेंटर में रह रहे लोगों की कमी की भनक लगते ही उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के टीम के साथ दोनों पिता पुत्र को उसके घर से क्वारंटाइन सेंटर के परिसर में लाया गया। उधर समाचार भेजे जाने तक दोनों मरीज जिस ई-रिक्शा से अपने घर गए हुए थे। उस रिक्शा चालक को क्वारंटाइन सेंटर परिसर में बुलाया गया था।

ग्राम समाचार, देवव्रत कुमार दास महेशपुर


Share on Google Plus

Editor - रंजीत भगत, पाकुड़

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें