expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Bhagalpur News:सरकारी अस्पतालों की स्थिति बदतर, कैसे होगा कोरोना का इलाज - चक्रपाणि

ग्राम समाचार, भागलपुर। बिहार प्रदेश राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश महासचिव डॉ चक्रपाणि हिमांशु ने शनिवार को एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि कहा कि भागलपुर जिले में कोरोना मरीजों की संख्या काफी अधिक बढ़ रहा है। बिहार के मुख्यमंत्री कोरोना संक्रमण रोकने में अक्षम साबित हो गए हैं। जिसका उदाहरण जिला प्रशासन के आयुक्त, डीएम, एडीएम, डीडीसी विश्वविद्यालय के वरीय पदाधिकारी एवं कर्मचारी एवं आम जनता का कोरोना से संक्रमित हो गए हैं। जब भागलपुर जिले के सभी बड़े पदाधिकारी संक्रमित हो गए तो गरीबों का देखभाल कौन करेगा। केंद्रीय राज्य स्वास्थ्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे भागलपुर के हैं। इसके बाद भी भागलपुर के सरकारी अस्पतालों की इतनी बदतर स्थिति इससे बड़ा दुर्भाग्य नहीं हो सकता। बिहार के सभी केंद्रीय मंत्री एवं केंद्रीय राज्य मंत्री एवं बिहार सरकार के मंत्री सिर्फ झूठा बयानबाजी में लगे हुए हैं। कोरोना के बचाव के नाम पर वृहद स्तर पर घोटाला हो रहा है। सबसे बड़ा सवाल है कि आखिर क्या कारण है कि निजी अस्पतालों में कोरोना से संक्रमित मरीजों का इलाज नहीं किया जा रहा है। बिजली कटने से आईसीयू में वेंटीलेटर बंद हो जाने से आईसीयू में भर्ती महिला की मौत हो जाती है। इतनी बड़ी उदासीनता बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। डॉक्टर एवं नर्स सही से अपनी ड्यूटी नहीं करते हैं और अस्पताल से गायब रहते हैं। सरकार द्वारा डॉक्टर एवं नर्स को पूरी सुविधा नहीं मिल रहा है। सभी मरीजों का जांच भी नहीं होता है। कोरोना से संक्रमित मरीज इलाज के लिए भटक रहे हैं। मरीज के परिजन का जांच भी सही से नहीं होता है। ऐसे में कैसे पता चलेगा कि मरीज के परिजन कोरोना से संक्रमित हैं या नहीं, अगर हैं तो इतने में वह कितनों को संक्रमित कर चुके होंगे। उपरोक्त विषय पर लॉकडाउन का नियम का पालन करते हुए धरना दिया जाएगा।

Share on Google Plus

Editor - Bijay shankar

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें