expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Pakur News: पाकुड़ फंसे 47 खानाबदोश मजदूरों को प्रशासन ने उपलब्ध कराया रेलवे टिकट

ग्राम समाचार, पाकुड़। वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण (कोविड - 19) के फैलाव को रोकने के लिए लागू लाकडाउन के कारण जिले में जड़ी- बूटी दवा आदि बिक्री कर जीवन-यापन करने वाले खानाबदोश परिवार फंसे गए थे। मामला संज्ञान में आने पर जिला प्रशासन ने इनके घर वापसी को लेकर त्वरित कार्रवाई को लेकर कदम उठाया। प्रशासन के पहल पर स्थानीय रेलवे अधिकारियों ने सोमवार को जिला प्रशासन को रेल टिकट उपलब्ध कराया। जिसे उपायुक्त कुलदीप चौधरी एवं उप विकास आयुक्त राम निवास यादव की उपस्थिति में खानाबदोश मजदूर परिवार के प्रतिनिधियों को रेल टिकट सौंपा गया।खानाबदोश मजदूर परिवारों को प्रशासन द्वारा हर संभव सहयोग किया जा रहा है। मंगलवार को सभी जिले से रवाना होंगे। इनकी ट्रेन दिल्ली के लिए जसीडीह स्टेशन से रवाना होगी।उपायुक्त कुलदीप चौधरी ने कहा कि बाजार समिति से प्रशासन बस उपलब्ध कराएगी। सभी को ससमय जसीडीह स्टेशन पहुंचाया जाएगा। उपायुक्त ने उप विकास आयुक्त को बस में फूड पैकेट भी उपलब्ध कराने को कहा है। मौके पर रेलवे की ओर से राजीव पांडेय व अन्य उपस्थित थे।खानाबदोश परिवार के महाजन महावत ने जिला प्रशासन को इसके लिए आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि हम मूल रूप से राजस्थान के हैं लेकिन दिल्ली में ही पिछले कई वर्षों से बस गये हैं। हम खानाबदोश हैं पूरे वर्ष विभिन्न राज्यों के जिले में घम घूमकर जड़ी-बूटी दवा आदि की बिक्री कर अपना जीवन यापन करते हैं। पाकुड़ में फरवरी माह में आएं थे लेकिन मार्च में लाक डाउन लग जाने के बाद यहां फंस गए। पुरूष-महिला एवं बच्चे सदस्यों को मिलाकर हम कुल 47 लोग हैं। लाक डाउन अवधि में भी जिला प्रशासन द्वारा काफी सहयोग किया गया। कई बार खाद्यान्न उपलब्ध कराया गया।


Share on Google Plus

Editor - रंजीत भगत, पाकुड़

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें