Bounsi News: स्व.मणि सिंह की पुण्यतिथि मनाई गयी

ग्राम समाचार,बौंसी,बांका। सूर्य मणि फाउंडेशन के चैयरमेन निकेश कुमार सिंह की अध्यक्षता में स्व.मणि प्रसाद सिंह की 21 वीं पुण्यतिथि आज मनायी गयी। इस अवसर पर दर्जनों गणमान्य लोगों ने उनके तस्वीर पर पुष्पांजलि अर्पित किया। इस अवसर पर शिक्षविद व समाजसेवी निकेश कुमार सिंह ने कहा कि मेरे पूज्य दादा सिद्धांत के साथ समझौता न करने बाले व्यक्ति थे क्योंकि वह पूर्णतः गाँधी विचार धारा के थे। परतंत्र भारत मे पैदा हुए मणि प्रसाद सिंह काफी विनम्र स्वभाव के थे।उनकी भाषा बड़ी माधुर्य थी। वह सभी को आप कहकर संबोधित करते थे। ग्राम वासियों का कहना है कि वैसा सरल,विनम्र,उदारहृदयमना व्यक्तित्व आज तक मैंने नही देखा।स्व.मणि सिंह शतरंज खेल के  बेताज-बादशाह थे।बिहार,बंगाल,उड़ीसा के सबसे बड़े महाराजा दरभंगा महाराज के दरवार 

के शतरंज के जादूगर कहे जाने बाले दरवारी लाल को मात्र 12 वर्ष की अवस्था मे शतरंज में करारी शिकस्त दी थी।शतरंज में उनका दूसरा कोई सानी नही था।वो सच्चाई के मार्ग पर ताउम्र चलते रहे।जब स्वतंत्रता सेनानी को पेंशन देने की बात चल रही थी और इनका नाम पेंशन की सूची में डाला गया तो उन्होंने पेंशन लेने से इंकार कर दिया और कहा कि वास्तविक पेंशन का हकदार उसे बनाया जाय जो इस हक के लायक है। स्वतंत्रता संघर्ष में जिसका योगदान बहुमूल्य है। ज्ञातव्य हो कि स्व.सूर्यमणि सिंह के नाम पर इस फाउंडेशन के नाम रखा गया है। जिसके कार्यकर्ता ने आक्सीजन दायिनी बृक्ष को ज्यादा से ज्यादा संख्या में लगाने का फैसला लिया है।इस अवसर पर श्री शालिग्राम सिंह, गुंजा सिंह तोमर,अजय कुमार सिंह,नितेश कुमार सिंह,ब्रजेश कुमार,शम्भू प्रसाद सिंह(दरोगा जी) कुणाल शानू,अंकित मानू रुद्रप्रताप सिंह,ठाकुर शांतनु,निबेश सिंह सहित अन्य लोग मौजूद थे। 

कुमार चंदन,ग्राम समाचार संवाददाता,बौंसी।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education