expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Chandigarh News : पौष्टिक एवं खाद्य उत्पाद उपलब्ध करवाने की दृष्टि से 6 महत्वपूर्ण समझौते किए गए

चंडीगढ़, 21 जनवरी- हरियाणा के लोगों को पौष्टिक एवं खाद्य उत्पाद उपलब्ध करवाने की दृष्टि से आज 6 महत्वपूर्ण समझौते किए गए । इनके तहत एफएमसीजी प्रमुख कंपनियों पैप्सीको व आईटीसी तथा स्टेट फेडरेशन में एचपीएमसी व मार्कफेड और हरियाणा एफपीओ जैसे कि अतुल्य बीमास्टर और एकता हनी के उत्पादों को वीटा बूथों पर बिक्री के लिए उपलब्ध करवाया जाएगा। इसके अलावा, हरियाणा डेयरी विकास सहकारी प्रसंघ लि. (एचडीडीसीएफ) द्वारा तैयार किए गए हल्दी दूध की शुरूआत, वीटा फ्रेंचाइजी पॉलिसी की लांचिंग और हैफेड के बाजरा व ज्वार बिस्कुट, नमकीन व मटठी को भी लांच किया गया।



हरियाणा के सहकारिता मंत्री डॉ. बनवारी लाल ने आज यहां हरियाणा डेयरी विकास सहकारी प्रसंघ लि. (एचडीडीसीएफ) द्वारा तैयार किए गए हल्दी दूध का शुभारंभ और वीटा फ्रेंचाइजी पॉलिसी की लांचिंग की तथा उनकी उपस्थिति में इन समझौता ज्ञापनों का आदान-प्रदान भी किया गया। इस मौके पर हैफेड के चेयरमैन श्री कैलाश भगत,  सहकारिता विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल, एचडीडीसीएफ के प्रबंध निदेशक श्री ए. श्रीनिवास, हैफेड के प्रबंध निदेशक श्री डी.के. बेहरा भी उपस्थित थे। इस अवसर पर उन्होंने बताया कि डेयरी प्रसंघ आज के डेयरी परिदृश्य और वीटा ब्रांड की बिक्री और लाभप्रदता बढ़ाने के लिए विभिन्न पहलुओं पर काम कर रहा है। इस दिशा में, प्रसंघ ने मुख्य पहलें की हैं जिसके तहत बूथों की अधिक संख्या, वीटा बूथों पर उपभोक्ताओं की संख्या में वृद्धि और बूथ मालिकों और प्रसंघ को अधिक लाभ दिलवाना सुनिश्चित करना है।



इन पहलों की श्रृंखला में, प्रसंघ अपने नए उत्पाद ‘‘हल्दी मिल्क विद ब्लैक पैपर स्वीट फ्लेवर मिल्क’’ की शुरूआत की है। वर्तमान कोविड संकट में बाजार प्रतिरक्षा बढ़ाने के लिए उत्पादों पर ध्यान केंद्रित कर रहा है और यह उत्पाद वीटा को प्रतिस्पर्धात्मक बढ़त देगा। बाजार में इसी तरह के कई उत्पाद उपलब्ध हैं, लेकिन प्रसंघ द्वारा तैयार हल्दी दूध न केवल हल्दी से समृद्ध है बल्कि काली मिर्च के साथ भी फोर्टिफाइड किया जाता है जो नैनो तकनीक के माध्यम से हर ड्रॉप में स्वाद, पोषण और प्रतिरक्षा सुनिश्चित करने के लिए है।


डेयरी प्रसंघ की लांच हुई फ्रेंचाइजी पॉलिसी

इस कार्यक्रम में प्रसंघ ने अपनी फ्रेंचाइजी पॉलिसी की भी शुरूआत की है। यह नीति खुदरा नेटवर्क को मजबूत करने और वीटा ब्रांड तथा व्यापक बिक्री को बढ़ाने के लिए तैयार की गई है।  इस नीति के तहत, प्रीबीबिल्ट शॉप/स्पेस के साथ या तो स्वामित्व वाली या किराए पर दी गई है, जिसे वीटा उत्पादों की बिक्री के लिए स्वीकृत किया जाएगा। नीति की कुछ प्रमुख विशेषताओं पर प्रकाश डालते हुए हरियाणा डेयरी विकास सहकारी प्रसंघ लि. (एचडीडीसीएफ) के प्रबंध निदेशक श्री ए. श्रीनिवास ने बताया कि फ्रैंचाइजी नीति शुरू करने का मुख्य उद्देश्य खुदरा नेटवर्क का विस्तार करना और समग्र राजस्व और वीटा मिल्क उत्पादों की बिक्री को बढ़ाना है। अब तक, हरियाणा में कुल 515 मौजूदा खुदरा स्टोर हैं। इस नीति के लॉन्च के साथ एनसीआर और क्वाड सिटी क्षेत्र (चंडीगढ़, पंचकूला, मोहाली और जीरकपुर) में बाजार हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए विशेष ध्यान दिया जाएगा। इसी प्रकार, न्यूनतम 100 वर्ग मीटर के दुकान क्षेत्र के पात्रता मानदंडों के साथ आवेदन आमंत्रित किया जाएंगे। आवेदक को प्रसंघ को सुरक्षा राशि के रूप में 5,000 रूपए (रिफण्डेवल सिक्योरिटी) जमा करवाने होंगें और आवेदक को बूथ आवंटन समिति द्वारा आबंटित जाएगा। फ्रैंचाइजी को किसी भी रॉयल्टी का भुगतान करने या वीटा के साथ कोई राजस्व सांझा करने की आवश्यकता नहीं है। तीन साल की अवधि के लिए मिल्क यूनियन के संबंधित सीईओ और आवेदक के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए जाएंगे। प्रसंघ ने इस नीति के तहत खुदरा दुकानों को 1000 तक बढ़ाने की योजना बनाई है।




प्रसंघ के 6 एजेंसियों के साथ हुए समझौते

एक अन्य पहल के अंतर्गत प्रसंघ ने एफएमसीजी प्रमुख जैसे कि वरूण बेवरेजिस (पैप्सीको) व आईटीसी, स्टेट फेडरेशन में एचपीएमसी व मार्कफेड और हरियाणा एफपीओ जैसे कि अतुल्य बीमास्टर और एकता हनी के उत्पादों को वीटा बूथों पर बिक्री के लिए उपलब्ध करवाया जाएगा।

आज ऐसी ही 6 एजेंसियों के साथ समझौता किया गया है जिसके अंतर्गत मार्कफेड एजेंसी द्वारा तैयार साग, दाल मखनी, दाल तडक़ा, चटपट चन्ना, काला चन्ना, अमृतसर छोले, मटर पनीर, राजमाह, पालक पनीर, कढी पकोड़ा, चटपटा चना उपलब्ध करवाया जाएगा।

वहीं, एचपीएमसी एजेंसी द्वारा तैयार एपल नैचुरल जूस, एपल सीडर विनेगर, एपल जूस कंसनट्रेट वीटा बूथों पर उपभोक्ताओं के लिए मुहैया होगा।

वरुण बेवरेज लिमिटेड एजेंसी द्वारा तैयार कोल्ड ड्रिंक्स जैसे कि पैप्सी, माउंटेन ड्यू, स्लाइस, निंबुज उपलब्ध होंगे।

इसी प्रकार, आईटीसी एजेंसी द्वारा तैयार पोहा, उपमा, सूजी हलवा, बिस्कुट, कैंडीमैन, बिंगो स्नैक्स उपभोक्ताओं को मुहैया करवाए जाएंगे।

एफपीओ- एकता हनी फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी लि. फतेहाबाद द्वारा तैयार हनी- मल्टी फ्लोरा एंड यूकेलिप्टस हनी उपलब्ध होंगे।

जबकि, एफपीओ-अतुल्य बीमास्टर हनी द्वारा तैयार हनी-मल्टी फलोरा उपभोक्ताओं को वीटा के बूथों पर उपलब्ध करवाया जाएगा।

हैफेड के बाजरा व ज्वार बिस्कुट, नमकीन व मटठी हुई लांच

हैफेड ने पहली बार बाजरा और ज्वार से बने बिस्कुट और नमकीन जैसे उपभोक्ता उत्पादों की एक नई रेंज लॉन्च करके स्वस्थ खाद्य पदार्थों के बढ़ते क्षेत्र में प्रवेश किया है। इन उत्पादों की लॉन्चिंग आज यहां एक कार्यक्रम में हरियाणा के सहकारिता मंत्री डॉ. बनवारी लाल द्वारा की गई।

नए लॉन्च किए गए बाजरा व ज्वार आधारित खाद्य उत्पादों में बाजरा जीरा बिस्कुट, ज्वार तिल बिस्कुट, चना फलैक्स सीड बिस्कुट, रोस्टेड बाजरा नमकीन, रोस्टेड ज्वार नमकीन, मिक्स ग्रेन नमकीन और बाजरा मटठी जैसे कुल सात उत्पाद शामिल हैं। इसके अलावा, हैफेड ने अपने ब्रांड नाम के तहत ‘पोहा’ को भी बाजार में बिक्री के लिए उपलब्ध करवाया है।

इस अवसर पर हरियाणा के सहकारिता मंत्री डॉ. बनवारी लाल ने कहा कि हैफेड ने हाल ही में हरियाणा के उपभोक्ताओं को अपने रिटेल आउटलेट्स के साथ-साथ मौजूदा नेटवर्क उत्पादों की व्यापक रेंज उपलब्ध करवाने के लिए कई पहलें की हैं जिसके तहत गुड, गेहूं का चोकर, शहद, हल्दी शामिल हैं।

कार्यक्रम के दौरान हैफेड के प्रबंध निदेशक श्री डी. के. बेहरा ने बताया कि हैफेड ने वूमेन सेल्फ हेल्प ग्रुप द्वारा उत्पादित बाजरा/ज्वार आधारित उपभोक्ता उत्पादों की बिक्री के लिए विपणन सहायता प्रदान करने के लिए वुमन सेल्फ हेल्प ग्रुप, गुरुग्राम के साथ समझौता किया हैं। इस सांझेदारी के माध्यम से हैफेड ने स्थानीय रूप से उत्पादित वस्तुओं के विपणन के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं जिससे बाजार में छोटे व्यापारियों को लाभ होगा। ‘क्षितिज’ हैफेड आउटलेट्स को अपने उत्पादों की निरंतर आपूर्ति सुनिश्चित करके  हैफेड के साथ लंबे समय की भागीदारी से राजस्व के मामले में महत्वपूर्ण लाभ प्राप्त करेगा, जो इसके महिला सदस्यों की आय को बढ़ावा देगा।

उन्होंने बताया कि हैफेड के मौजूदा उपभोक्ता उत्पाद यानी सुपीरियर बासमती चावल, प्रीमियम गोल्ड बासमती चावल, साबुत गेहूं का चक्की आटा, कच्ची घानी सरसों का तेल, रिफाइंड सोयाबीन तेल, हैफेड चीनी, साबुत गेहूं दलिया, गुड़, गेहूं का चोकर उपभोक्ताओं में बहुत लोकप्रिय है। जल्द ही, हैफेड अपने ब्रांड नाम के तहत दालों की 10 किस्मों को लॉन्च करेगा।

इस मौके पर उन्होंने अवगत कराया कि हैफेड राज्य में सभी जिला मुख्यालय (कस्बों/शहरों) में ‘हैफेड बाजार’ बिक्री आउटलेट के रूप में बड़े आउटलेट खोलने की तैयारी कर रहा है।

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें