expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Pakur News: लिट्टीपाड़ा उपायुक्त ने किया दीदी बाड़ी योजना का शुभारंभ


ग्राम समाचार, पाकुड़। लिट्टीपाड़ा प्रखंड के करमाटांड़ पंचायत के कैराबनी गांव में योजना का उपायुक्त कुलदीप चौधरी एवं उप विकास आयुक्त ने की शुरूआत राज्य सरकार की महत्वकांक्षी योजना दीदी बाड़ी योजना का शुभारंभ शनिवार को उपायुक्त कुलदीप चौधरी एवं उप विकास आयुक्त अनमोल कुमार सिंह ने संयुक्त रूप से किया द्वय पदाधिकारियों ने लिट्टीपाड़ा प्रखंड अंतर्गत करमाटांड़ पंचायत के कैराबनी गांव में फीता काटकर इस योजना की शुरूआत की इससे पूर्व गांव की ग्रामीण महिलाओं ने आदिवासी परंपरा के अनुसार पदाधिकारियों का स्वागत किया मौके पर अपने संबोधन में उपायुक्त कुलदीप चौधरी ने कहा कि यह योजना जिले के महिला-माता एवं दीदीओं के लिए सरकार ने लाई है ताकि उन्हें सही पोषण मिल सके दीदी बाड़ी योजना के तहत घर के समीप खाली  पर्ती 01 डिस्मल 1.5 डिस्मल की भूमि पर भी पौष्टिक आहार वाली सब्जी – फल आदि का उत्पादन करें और उसका स्वयं एवं परिवार के सदस्यों को सेवन कराएं इससे शरिर को सही पोषण मिलेगा जिससे आपका स्वास्थ्य बेहतर होगा उन्होंने कहा कि प्रशासन ने एक टोले में दस दीदीओं को योजना से जोड़ने का लक्ष्य रखा है जिसे भविष्य में और बढ़ाया जाएगा यह योजना महिला सश्क्तीकरण को भी बढ़ावा देगा साथ ही उन्हें स्वरोजगार से जोड़ेगा।लोकल स्तर पर नर्सरी लगाने का दें प्रस्ताव उपायुक्त ने मौके पर महिला समूह द्वारा मिर्च, टमाटर आदि के पौधों के लिए एक छोटी नर्सरी बनाई गई थी जिसको लेकर उन्होंने झारखंड स्टेट लाईवलीहूड प्रोमोशन सोसाईटी जजेएसएलपीएस के डीपीएम को प्रस्ताव तैयार करने को कहा कहा कि पहाड़ी एवं दुगर्म क्षेत्रों में लोकल स्टर पर नर्सरी लगाया जाएगा ताकि ग्रामीणों को आसानी से पौधा उपलब्ध कराया जा सके। मौके पर उप विकास आयुक्त अनमोल कुमार सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि जैसा कि इस योजना के नाम से ही प्रतित होता है कि यह दीदी की वाटिका है इसे महिलाओं को केंद्र में रख कर बनाया गया है देश व झारखंड के लिए कुपोषण एक बहुत बड़ी समस्या है इसे दूर करने के लिए इस योजना की शुरूआत की गई है साथ ही कोरोना के बाद से बढ़ी बेरोजगारी भी दूर करना सरकार की प्राथमिकता है इस योजना से जहां महिलाओं - बच्चों को पौष्टिक आहार मिलेगा। वहीं उत्पादन बढ़ाकर वह इससे आर्थिक रूप से समृद्ध भी हो सकेंगी इस योजना की लागत कुछ विशेष नहीं है आपका अपना खेत होना चाहिए, बीज जेएसएलपीएस द्वारा दिया जाएगा खेत में मजदूरी का भुगतान प्रखंड के द्वारा किया जाएगा इसके लिए स्वयं सहायता समूह का सदस्य एवं जाब कार्ड होना अनिवार्य है। मौके पर द्वय पदाधिकारियों ने दीदी बाड़ी योजना के लिए तैयार खेत में पालकपालक मूली आदि का बीज एवं पपिता आदि का पेड़ लगाया प्रखंड विकास पदाधिकारी पंकज रवि एवं स्थानीय मुखिया ने भी महिलाओं को संबोधित किया और योजना से लाभ लेने के लिए प्रेरित किया। कार्यक्रम का संचालन झारखंड स्टेट लाईवलीहूड प्रोमोशन सोसाईटी जेएसएलपीएस के डीपीएम प्रवीण मिश्रा ने किया इस अवसर पर सहायक जनसंपर्क पदाधिकारी अविनाश कुमार समेत जेएसएलपीएस के कर्मी स्वयं सहायता समूह की दीदी ग्रामीण एवं अन्य उपस्थित थे।


Share on Google Plus

Editor - रंजीत भगत, पाकुड़

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें