expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

GoddaNews: दक्षता विकास हेतु चल रहा है बकरी पालन प्रशिक्षण



ग्राम समाचार गोड्डा, ब्यूरो रिपोर्ट:-   ग्रामीण विकास ट्रस्ट-कृषि विज्ञान केंद्र के सभागार में "गरीब कल्याण रोजगार अभियान के अन्तर्गत प्रवासी श्रमिकों के जीविकोपार्जन हेतु दक्षता विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम" के तहत "बकरी पालन" विषय पर तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम जारी है। सभी प्रवासी श्रमिकों को फेस मास्क के साथ सामाजिक दूरी के नियमानुसार सभागार में बैठाया गया। पशुपालन वैज्ञानिक डाॅ. सतीश कुमार ने बताया कि किसान दुधारू पशुओं को खिलाने के लिए हरे घास के विकल्प के रूप में हाइड्रोपोनिक्स विधि से उगाए गए गेंहू एवं मक्का को उगाकर चारे के लिए उपयोग कर सकते हैं। एक ट्रे में बिना मिट्टी के ही चारा सात से दस दिनों में ही उगकर तैयार हो जाता है, साथ ही इस तकनीक से हरे चारे को किसी भी मौसम में लगाया जा सकता है। खास बात यह है कि दूधारू पशुओं के दूध बढ़ाने में हाइड्रोरोनिक्स में दूसरे हरे चारे की तुलना में ज्यादा पोषक तत्व पाया जाता है। हाइड्रोपोनिक्स तकनीक से तैयार की गई घास में साधारण हरे चारे की तुलना में 40 फीसदी ज्यादा पोषण तत्व होता है। पौधे उगाने की हाइड्रोपोनिक तकनीक पर्यावरण के लिए काफी अच्छी होती है। इन पौधों के लिए कम पानी की जरूरत होती है, जिससे पानी की बचत होती है। कीटनाशकों के भी काफी कम प्रयोग की आवश्यकता पड़ती है। इस तकनीक से एक किलोग्राम मक्का से पांच से सात किलोग्राम चारा दस दिन में बनता है। इस विधि से हरे चारे के उगाने के लिए सबसे पहले मक्के को 24 घंटे के लिए पानी में भिगोया जाता है। उसके बाद एक ट्रे में उसे डाला जाता है और जूट के बोरे से ढक देते हैं। तीन दिनों तक इसे ढके रखने पर उसमें अंकुरण हो जाता है। फिर उसे पांच ट्रे में बांट दिया जाता है। हर दो-तीन घंटे में पानी डालना होता है। ट्रे में छेद होता है, जितना पौधों को पानी की जरूरत होती है उतना पानी ही रुकता है बाकी पानी निकल जाता है। हाइड्रोपोनिक फसलों की लागत कम रहती है तथा किसानों को अच्छा मुनाफा मिलता है। हाइड्रोपोनिक तकनीक से पौधों को ज्यादा आक्सीजन मिल जाती है और पौधे ज्यादा तेज गति से न्यूट्रीएंट को सोखते हैं। परंपरागत हरे चारे में प्रोटीन 10.7 फीसदी होती है जबकि हाइड्रोपोनिक्स हरे चारे में प्रोटीन 13.6 प्रतिशत होती है। इसके अतिरिक्त अजोला, नेपियर, कसावा, सहजन, कटहल तथा सुबबूल से हरा चारा तैयार करने की विस्तृत जानकारी दी। सभी प्रवासी श्रमिकों के बीच "बकरी पालन" विषयक पुस्तिका का वितरण किया गया। मौके पर डाॅ0 सूर्यभूषण, डाॅ0 हेमन्त कुमार चौरसिया, डाॅ0प्रगतिका मिश्रा, डाॅ0रितेश दुबे, डाॅ0अमितेश कुमार सिंह, रजनीश प्रसाद राजेश, राकेश रौशन कुमार सिंह, वसीम अकरम मौजूद रहे। पप्पू शर्मा, चन्दन मांझी, महेन्द्र मुर्मू,मो. तनवीर, गजाधर शर्मा, शिवलाल किरका, मो. खालिद, सुभाष राय समेत 35 प्रवासी श्रमिक प्रशिक्षण में सम्मिलित हुए।


◆ *कोरोना (COVID-19) आपातकालीन डायल नंबर:*◆

====================

【 *जिला नियंत्रण कक्ष - 06422-222002, 1950,100*】

===================

*#TeamPRD(Godda)*

Share on Google Plus

Editor - भुपेन्द्र कुमार चौबे

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें