Jamtara News: पुलिस चोरों को पकड़ने में असफल ।


ग्राम समाचार, जामताड़ा।--जिले में अपराधी अब धर्म स्थानों को चोरी का ठिकाना बना रहा है। इसी क्रम में अपराधियों ने बीती रात दक्षिण बहाल स्थित कालीन मंदिर को अपना निशाना बनाया है। अपराधियों ने समाहरणालय चितरा मार्ग में स्थित दक्षिणबहाल काली मंदिर से लाखों की चोरी की घटना को अंजाम दिया है। बता दें कि यह मंदिर समाहरणालय से करीब एक किलोमीटर की दूरी पर मुख्य मार्ग किनारे स्थित है। मंदिर का ताला तोड़कर अपराधी लाखों की संपत्ति ले गये। जिले में चोरी की घटनाएं लगातार हो रही है। लेकिन पुलिस इस पर अंकुश लगाने में विफल रही है।
मंदिर कमेटी के सदस्य प्रणय सिंह ने घटना को लेकर थाने में लिखित शिकायत दर्ज करायी है और जल्द से जल्द चोरी के सामान के साथ अपराधियों को पकड़ने की गुहार लगायी है। प्रणय सिंह ने बताया कि अपराधियों ने मंदिर की दान पेटी भी तोड़कर नगद रूपये लेकर फरार हो गये है। इसके अलावा मां काली की चांदी की मुकुट, श्रृंगार के सामान, पीतल की बर्तन, लाउडस्पीकर सिस्टम की मशीन ले उड़े है।
घटना की जानकारी मिलने के बाद एएसआई भूपेन्द्र सिंह मंदिर पहुंच कर मामले की जांच में जुट गये है। एएसआई ने बताया कि जल्द ही अपराधियों को चिन्हित कर गिरफ्तार किया जायेगा। मंदिर में हुई चोरी के बाद अस पास गांव के लोगों में काफी आक्रोश है। लोगों ने बताया कि तीन साल पूर्व भी जामताड़ा शहर स्थित रानी सती मंदिर में लाखों की डकैती हुई थी। जिसका खुलासा अब तक नहीं हो पाया है। इसके अलावा भी जिले में रक्षाकाली मंदिर जामताड़ा, न्यू टाउन दूर्गा मंदिर,राधा कृष्ण मंदिर, बेना स्थित काली मंदिर समेत कई अन्य धार्मिक स्थल में चोरी की घटना हुई है। इतना ही नहीं जामताड़ा में ही मजा मार्ग में स्थित श्याम मंदिर में भी चोरी का प्रयास किया गया था लेकिन मंदिर प्रबंधन ने चोर को पकड़कर पुलिस के हवाले किया था। और पुलिस चोरों को पकड़ने में असफल रही है।
Share on Google Plus

Editor - कौशल औझा, जामताड़ा (झारखंड)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education