चांदन न्यूज: जिले में कोविड वैक्सीन उपलब्ध नहीं, लोग मजबूर होकर वैक्सीन लेने पहुंचा झारखंड

ग्राम समाचार,चांदन,बांका।  एक तरफ सरकार लाख दावे करने में लगी है की 6 माह में 6 करोड़ लोगों को कोविड-19 वैक्सीनेशन कराना है। वही सरकार के पास वैक्सीन  उपलब्ध नहीं। बताते चलें कि कोविड-19 कराने के संबंध में जिला अधिकारी बांका सुहर्ष भगत के द्वारा पिछले दिनों प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सभी ब्लॉक एवं स्वास्थ्य विभाग के अस्पतालों को विशेष शिविर आयोजन कराते हुए वैक्सीनेशन का लक्ष्य दिया गया था जिसे जिले के सभी ब्लॉक के लोगों को वैक्सीनेशन किया गया। इसके पहले लोगों में जागरूकता की कमी के कारण वैक्सीनेशन कराने में दिलचस्पी नहीं देखी गई थी जिसे लेकर प्रखंड के जनप्रतिनिधि के साथ-साथ वीडियो, सी ओ, आशा, आंगनवाड़ी इत्यादि के साथ अन्य कर्मियों के अथक प्रयास पर अब जागरूकता जगी और लोग कतार बद्ध में 

कोविड-19 वैक्सीनेशन कराने में लगे हैं। लेकिन विडंबना यह उत्पन्न हो गई की 3 दिनों से जिले के कई अस्पतालों में कोविसिल्ड वेक्सीन उपलब्ध नहीं देखा गया। उदाहरण के तौर पर देखा जाए तो चांदन प्रखंड के लोग झारखंड पहुंचकर कोविशिल्ड वैक्सीन लेने को मजबूर हैं। इस संबंध में समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चांदन प्रभारी चिकित्सक डॉ एके सिन्हा ने बताया कि हमारे अस्पताल में 3 दिनों से एक से उपलब्ध नहीं होने के कारण वैक्सीनेशन बाधित हुई है। वैक्सीन उपलब्ध होते ही सुचारू ढंग से वैक्सीनेशन किया जाएगा। वहीं लगातार हो रहे कोरोना जांच में वृद्धि को देखते हुए झारखंड बॉर्डर स्थित दर्दमारा में 288 लोगों का कोरोना जांच किया गया जिसमें एंटी जैन किट से 223 आरटीपीएस 50 ट्रूनेट 15 सैंपल लिया गया। इस मौके पर समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चंदन प्रभारी एके सिन्हा के नेतृत्व में लैब टेक्नीशियन चंदन कुमार साफ-सफाई सुपरवाइजर लक्ष्मण का डाटा ऑपरेटर प्रशांत मिश्रा इत्यादि मौजूद थे।

उमाकांत साह,ग्राम समाचार संवाददाता,चांदन।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

Online Education