expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Online Education


Rewari News : फ्रूट विक्रेताओ ने चालान टीम पर नाजायज़ रूप से परेशान करने के आरोप लगाए



वैश्विक महामारी कोरोना से निपटने के लिए शासन प्रशासन पूरी मेहनत से जुटा हुआ है। कोरोना के नियमो के लिए जारी गाइड लाइन की सख्ती के साथ पालना भी करवाई जा रही है। लोगो को राहत देने के लिए सरकार द्वारा ऑड ईवन फॉर्मूले से सुबह 7 बजे से लेकर दोपहर 12 बजे तक बाजार खोलने की छूट दी गई है और नई गाइड लाइन के मुताबिक बाजार खुलने भी लगे है कोरोना गाइड लाइन के अनुसार निर्धारित समय पर बाजार खुले और तय समय पर भी बंद हो इसकी अनुपालना के लिए टीमों का गठन किया गया है। इन सबके बीच रेवाड़ी में नियमो का पालन कराने के नाम पर चालान टीम की दबंगई सामने आयी है। जिसमे शहर के महाराणा प्रताप चौक पर स्थित फ्रूट विक्रेताओ ने चालान टीम पर मनमानी करने और रॉब दिखाने का आरोप लगाया है। फ्रूट विक्रेता आकाश का कहना है कि वे यूपी के रहने वाले है और कुछ कमाने के लिए यहाँ आये है दुकान खोलने का समय सुबह 7 बजे से दोपहर 12 बजे तक का दिया हुआ है बावजूद इसके नगर परिषद की चालान टीम उन्हें बेवजह परेशान करती है। विक्रेताओं ने आरोप लगाया कि टीम ने आकर 11 बजे ही उनके चालान काट दिए। चालान टीम ने उनसे सामान देने को कहा नहीं देने पर जान बूझकर कमियां निकालकर उनके 500-500 के चालान काट दिए। फल विक्रेताओं ने चालान टीम पर कई तरह के आरोप लगाते हुए कहा है कि टीम के लोग आकर उनसे झगड़ा करते है बिना बात पर धमकाते है इस तरह वे पिछले साल लॉक डाउन में भी उन्हें परेशान किया गया था और अब भी ऐसे ही किया जा रहा है। उनका कहना है कि वे प्रवासी लोग है हज़ारो रुपये खर्च कर किराया देकर कुछ कमाने के लिए आये है लेकिन टीम के इस रवैये से उनमे खासी नाराजगी है।

Share on Google Plus

Editor - राजेश शर्मा : रेवाड़ी (हरि.) - 9813263002

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें