expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

Online Education


Chandan News: ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड-19 वैक्सीनेशन की गलत अफवाहों से वैक्सीनेशन दर में कमी, समाजसेवी ने दिखाया आईना

ग्राम समाचार,चांदन,बांका। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चांदन प्रखंड अंतर्गत के ग्रामीणों में खौफ पैदा हो गई है। जिसके कारण वैक्सीन लेने से परहेज़ कर दिया है। ग्रामीणों का कहना है की वैक्सीन लेने से कई आदमी का मौत हो गया है, जिसके कारण चांदन स्वास्थ्य केंद्र में वैक्सीनेशन की गति बहुत स्लो चल रही है। जिससे चांदन स्वास्थ्य केंद्र के  मेडिकल टीम द्वारा वैक्सीनेशन के लिए मोबाइल वैन की भी व्यवस्था किया है, जिससे हर पंचायत में मोबाइल वैन द्वारा चांदन स्वास्थ्य केंद्र से बनाए गए टीम द्वारा 

सभी पंचायतों में हर रोज़ वैक्सीनेशन के लिए जा रहे हैं । लेकिन कुछ ग्रामीण झूठी अफवाह से, वैक्सीन लेने से परहेज़ कर रहे हैं। वहीं चांदन स्वास्थ्य केंद्र के डाक्टरों का कहना है कि अभी दूसरी लहर में कोरोना का इतना बड़ा खौफ देखने को मिला है, अगर ग्रामीणों में वैक्सीन लेने से इनकार करते हैं तो, जहां कोरोना की आने वाली तीसरी लहर में और तबाही मचा सकते हैं। इसलिए वैक्सीनेशन बहुत जरूरी है। तभी हम सभी कोरोना से जीत सकते हैं। इसी क्रम में चांदन की जाने-माने व्यक्तियों ने 

अपनी प्रतिभा दिखाते हुए हर्षोल्लास के साथ कोविशिल्ड पहला डोज लगवाया जिसमें आज पहले चरण में चांदन के समाजसेवी पुरोहित रुपेश पांडेय, विजय तिवारी मानिकपुर निवासी ने पहला डोज का टीका लगवाया। और टीका लगवा कर टीका लेने आए व्यक्तियों को टीका के महत्व के बारे में जानकारी देते हुए मार्गदर्शन भी दिए। मौके से हेल्थ मैनेजर चांदन के डॉ यश राज ने कहा कि फिलहाल चांदन के सभी पदाधिकारी गण, जनप्रतिनिधि गण, समाजसेवी स्वास्थ्य कार्यकर्ता एवं प्रेस रिपोर्टर की मदद से धीरे धीरे चांदन के ग्रामीणों में जागरूकता आई है।  जिससे  वैक्सीनेशन की गति में कुछ तेज आई है। 

उमाकांत साह,ग्राम समाचार संवाददाता,चांदन।

Share on Google Plus

Editor - कुमार चन्दन, बाँका (बिहार)

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें