expr:class='"loading" + data:blog.mobileClass'>

1 सप्ताह से 1068 नमूना लैब में लंबित


जामताड़ा : जिले में नमूना संग्रह गति बढ़ती है तो जांच गति सुस्त हो जाता है ऐसे में लक्ष्य के अनुरूप लाक्षणिक व्यक्तियों का नमूना जांच नहीं हो पा रहा है। नमूना संग्रह तथा जांच गति सुस्त होने का ही परिणाम है कि जिले में दिन-प्रतिदिन पॉजिटिव मरीज की संख्या विस्तार होते जा रहा है। 28 मार्च से अब तक जिले में 3752 प्रवासी तथा लाक्षणिक व्यक्तियों का नमूना रांची, जमशेदपुर, धनबाद तथा इटकी स्थित लैब में जांच को भेजा गया है। लेकिन उक्त विभिन्न लैब में पिछले 1 सप्ताह से 1068 नमूना का जांच लंबित है। इधर जिला स्तरीय डेडीकेटेड कोरोना अस्पताल में तीन ट्रूनेट जांच मशीन स्थापित है इतना ही नहीं अस्पताल में कन्फर्मेशन जांच मशीन भी स्थापित है। लेकिन ट्रूनेट जांच किट तथा कंफर्मेशन सिस्टम जांच कीट का अभाव होने के कारण संग्रहित नमूना का जांच जिला स्तरीय लैब में सुस्त गति से हो पा रहा है। अधिसंख्य नमूना होने पर स्वास्थ्य विभाग को नमूना जांच के लिए धन्यवाद जमशेदपुर इटकी रांची स्थित लैब पर आश्रित रहना पड़ता है जहां नमूना भेजने के 1 सप्ताह बाद भी जांच रिपोर्ट प्राप्त नहीं हो पाता है। वर्तमान समय में जिले में कोरोना वायरस का प्रसार गति बढ़ता जा रहा है ऐसे में बेहद पैमाने पर लाक्षणिक व्यक्तियों के नमूना जांच अति आवश्यक है। -- जिले में 3752 नमूना की जांच धनबाद रांची जमशेदपुर इटकी स्थित लैब से किया गया है जहां 33 पॉजिटिव मरीज की पहचान हुई थी।इधर जिला स्तरीय कोरोना डेडीकेटेड अस्पताल में अब तक 1350 व्यक्तियों का नमूना की जांच ट्रुनेट मशीन से किया गया है। जिसमें 28 पॉजिटिव मरीज पाए गए थे। वर्तमान समय में जिले में कोरोना वायरस का उग्र रूप दिखाई दे रहा है ऐसे में अधिक से अधिक नमूना संग्रह कर जांच आवश्यक है। जिले में ट्रूनेट जांच किट का अभाव जबकि धनबाद जमशेदपुर रांची इटकी लैब में नमूना जांच का दबाव समस्या बनी हुई है। डॉ अजीत कुमार दुबे, जिला महामारी विशेषज्ञ।

Share on Google Plus

Editor - अरविंद ओझा, जामताड़ा

ग्राम समाचार से आप सीधे जुड़ सकते हैं-
Whatsaap Number -8800256688
E-mail - gramsamachar@gmail.com

* ग्राम समाचार से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

* ग्राम समाचार के "खबर से असर तक" के राष्ट्र निर्माण अभियान में सहयोग करें। ग्राम समाचार एक गैर-लाभकारी संगठन है, हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें।
- राजीव कुमार (Editor-in-Chief)

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें