आजीविका संसाधन केन्द्र पर ‘मीडिया संवाद‘  का आयोजन

'Media Dialoguesग्राम समाचार, रांची (झारखंड)।  रांची उपायुक्त  मनोज कुमार की अध्यक्षता में अनगड़ा प्रखण्ड के गेतलसूद आजीविका संसाधन केन्द्र पर ‘मीडिया संवाद‘  का आयोजन किया गया। उपायुक्त ने बताया कि यह राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत एक सबसे अच्छा केन्द्र रहा है। जहां पर आजीविका मिशन सघन स्तर पर कार्य कर रहा है। यहां महिलाएं अपना स्वयं सहायता समूह बनाती है और स्वरोजगार के माध्यम से आगे बढ़ रही है। सरकार द्वारा इन्हें पहले चरण में रोजगार हेतु 15000 रूपये प्रदान की जाती है और जो भी स्वयं सहायता समूह अच्छा काम करती है। उन्हे 1 लाख रूपये तक की राशि  बैंको द्वारा क्रेडिट लिंकेज के माध्यम से मिलती हैं।

उपायुक्त ने कहा कि गेतलसूद स्थित आजीविका संसाधन केन्द्र एक माडल केन्द्र है जहां पहले महिलाओं को प्रशिक्षण देने के लिए आन्ध्र प्रदेश, केरल आदि से हमें प्रशिक्षक बुलाने होते थे लेकिन अब ये दीदी इतनी सक्षम हो गई है कि स्वयं दूसरे जिलो में प्रशिक्षण देने जाती है। यहां की कुछ महिलाएं केरल तक जा चुकी है। सबसे अच्छी बात ये है कि यहां के हर परिवार की कम से कम एक महिला समूह की सदस्य है और वे आर्थिक रूप से सशक्त हो रही है। मुर्गी पालन,  बकरी पालन और कृषि का कार्य तो समूह की महिलाएं कर ही रही है। साथ ही पशुओ को बचाकर रखना,  उनकी अच्छी नस्ल तैयार हो इस पर भी समूह की सदस्य काम कर रही है। पशु-सखी,  बैंक-मित्रा के रूप में समूह की सदस्य बेहतरीन कार्य कर रही है। जो सबके लिए उदाहरण है।

'Media Dialogues

उपायुक्त ने मीडिया कर्मियों को बताया कि विगत दिनों दिल्ली में नीति आयोग द्वारा देश के 115 जिलों के तीव्र विकास से संबंधित बैठक में कुल 48 मापदण्ड तैयार किए गए है। जिनको आधार मानकर 2022 तक सम्पूर्ण विकास का स्वरूप  तैयार करना है। उपायुक्त ने बताया कि इन जिलों में झारखण्ड के 19 जिले शामिल है जिनमें मार्च में एक बेस लाईन सर्वे किया जाएगा। फिर केन्द्र सरकार द्वारा चयनित विभिन्न एजेन्सियों के प्रतिनिधियों द्वारा इन जिलों में विकास की गति का हर दिन सर्वेक्षण कर रिपोर्ट नीति आयोग को भेजी जाएगी। इसके लिए राज्य स्तर एवं केन्द्र स्तर पर भी नोडल पदाधिकारी का मनोनयन किया गया है जो जिला प्रशासन को हर संभव मदद करेंगे। संबंधित विभागों के पदाधिकारी अपने स्तर से विकास के निर्धारित मापदण्डों के आधार पर कार्य करेंगे कहीं कोई परेशानी आती है तो जिला उसे राज्य और केन्द्र सरकार के पास भेजेगा।

उपायुक्त ने बताया कि स्वच्छता अभियान हेतु लक्षियत शौचालय निर्माण की दिशा में भी रांची जिला बहुत अच्छा काम कर रहा है और हम लक्ष्य तक पहुंच रहे हैं। धान अधिप्राप्ति का कार्य भी जिले में लक्ष्य के अनुरूप अच्छे तरीके से चल रहा है। रांची जिले में गुणवत्ता की दृष्टि से काफी अच्छे गुणवत्ता वाले शौचालय बन रहे है ये हमारे लिए गर्व का विषय है।

आज के मिडिया-संवाद में गेतलसूद आजीविका संसाधन केन्द्र की स्वयं सहायता समूह की विभिन्न क्षेत्रों में कार्य करने वाली दीदियों ने भी अपनी सफलता की कहानी बतायी। कार्यक्रम के आरंभ में झारखण्ड राज्य आजीविका मिशन सोसाइटी के कुमार विकास ने अतिथियों का स्वागत किया गया।

आजीविका मिशन सोसाइटी, जिला योजना प्रबंधक शान्ति मार्डी ने भी बताया कि समूह से जुड़कर महिलाओं की आय विगत दो वर्षो में दो तीन गुणा बढ़ गई है और अब प्रत्येक समूह के लिए 5 लाख का कैश क्रेडिट लिंकेज बैंक द्वारा किया जा रहा है ताकि वे तेजी से अपने व्यवसाय को आगे बढा सके।

आज के इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से बीस सूत्री उपाध्यक्ष, अनुमण्डल पदाधिकारी,राँची, एडीएम विधि व्यवस्था,राँची, एडीएम नक्सल राँची, जिला उप निर्वाचन पदाधिकारी, नजारत उपसमार्हता राँची, जिला पंचायतीराज पदाधिकारी,राँची, कार्यपालक दण्डाधिकारी, जिला जन सम्पर्क पदाधिकारी,राँची, अनगड़ा प्रखण्ड के प्रमुख, जिला परिषद सदस्य, मुखिया सहित अन्य उपस्थित थे।

 –  कुमुद रंजन, ग्राम समाचार रांची (झारखंड)। 

Loading...