केजरीवाल के घर आधी रात चीफ सेक्रेटरी से बदसलूकी, आरोप प्रत्यारोप के बीच नौकर ’शाहों‘‘ ने छोड़ा काम

kejriwal_delhiग्राम समाचार नई दिल्ली।  एक बार फिर दिल्ली में संवैधानिक संकट का खतरा मंडराने लगा है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर सोमवार रात मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ हाथापाई की बात सामने आई है। पुलिस ने इस सिलसिले में देर रात आप विधायक प्रकाश जारवाल को हिरासतम में ले लिया। घटना के बाद सरकार व अधिकारी अमला आमने-सामने है। आईएएस एसोसिएशन के साथ दानिक्स व दास काडर के एसोसिएशन संयुक्त रूप से मुख्य सचिव के साथ खड़े होकर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

दिल्ली सचिवालय में मंगलवार को दिनभर अफरा-तफरी का माहौल रहा। उधर आईएएस एसोसिएशन ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात कर मामले की शिकायत की है। राजनाथ सिंह ने इस मामले में उपराज्यपाल अनिल बैजल से जवाब-तलब किया है। आईएएस एसोसिएशन ने सिविल लाइंस थाने में एफआईआर दर्ज कराई है।

दोषी विधायक की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस ने कार्रवाई तेज कर दी है। मुख्यमंत्री आवास पर सोमवार रात बारह बजे बैठक बुलाई गई। जिसमें मुख्यमंत्री के अलावा उपमुख्यमंत्री व 11 विधायक भी थे। मुख्य सचिव को फोन कर 12 बजे आवास पर बुलाया गया। हालांकि आप विधायक मुख्यमंत्री आवास पर करीब 10 बजे रात को ही जमा हो गए थे। मुख्यमंत्री के साथ पहले विधायकों की मीटिंग हो चुकी थी। करीब 12 बजे रात को मुख्य सचिव अंशु प्रकाश मुख्यमंत्री आवास पर पहुंचे।

अंशु प्रकाश ने कहा कि विज्ञापन को लेकर मीटिंग बुलाई गई थी, लेकिन मीटिंग में पहुंचते ही आप विधायकों ने राशन और पेंशन को लेकर बहस शुरू कर दी। विधायकों का दावा है कि जनसमस्या को लेकर मीटिंग बुलाई गई थी। आरोप है कि यहां विधायक अमानतुल्ला ने मुख्य सचिव को मुक्के से मारा। मुख्य सचिव का आरोप है कि बैठक सरकार के तीन साल पूरा होने पर विज्ञापन न जारी करने को लेकर थी। आप विधायक ने इस बैठक में राशन कार्ड न जारी होने व लोगों को पेंशन न मिलने को लेकर बहस शुरू कर दी। विवाद पैदा होने के बाद मुख्य सचिव वहां से निकल गए और एलजी को फोन कर मामले की सूचना दी।

cs-delhi

सुबह दिल्ली सचिवालय खुलते ही मुख्य सचिव के साथ बीती रात र्दुव्‍यवहार की सूचना आग की तरह फैली। दिल्ली एडमिनिस्ट्रेशन सबार्डिनेट सर्विसेज (दास) काडर आग बबूला हो गया। आनन-फानन में पूरा सचिवालय मुख्यमंत्री कार्यालय के समक्ष दूसरे तल पर खड़ा हो गया। दास काडर के अधिकारियों ने सुबह से लेकर करीब चार बजे तक सचिवालय के चौथे तल से दसवें तल तक स्थित प्रत्येक विभाग को काम काज न करने को कहा। बड़े अधिकारी चैंबर में बैठे रहे लेकिन दास काडर के कड़े रवैये से क्लर्क, सेक्शन ऑफिसर व उप सचिव के अधिकारी ने तुरंत काम रोक दिया।

 

Loading...