बदल रहा है भारत, 2017 में 16 अरब डालर का रिकार्ड निवेश – प्रवासी सांसदों के सम्मेलन में बोले पीएम मोदी

Narendra Modiग्राम समाचार,  नई दिल्ली।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को पहले प्रवासी सांसद सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए कहा कि पिछले तीन-चार वर्षो में भारत के प्रति दुनिया का नजरिया बदल गया है। हमारे ऊपर ध्यान बढ़ रहा है। इसका मुख्य कारण यही है कि भारत स्वयं बदल रहा है, इसमें बदलाव आ रहा है। मोदी ने कहा, जैसा पहले था, वैसे ही चलता रहेगा, कुछ बदलेगा नहीं , इस सोच से भारत अब बहुत आगे बढ़ चुका है। व्यवस्थाओं में हो रहे संपूर्ण परिवर्तन का, इसमें हो रहे अपरिवर्तनीय बदलाव का परिणाम आपको हर क्षेत्र में नजर आएगा।

प्रथम प्रवासी भारतीय सांसद सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि भारत न तो किसी की जमीन कब्जाना चाहता है और न ही किसी के संसाधनों को हथियाना चाहता है। उनके विकास का मॉडल ‘‘एक हाथ लो और दूसरे हाथ दो’ की अवधारणा पर आधारित नहीं है। प्रधानमंत्री का परोक्ष संकेत उपमहाद्वीप में चीन के प्रभाव बढ़ाने के प्रयासों के संदर्भ में माना जा रहा है। देश की नीति मानवीय मूल्यों पर आधारित है। इसने हमेशा विश्व पटल पर सकारात्मक भूमिका निभाई है।

  • सर्वाधिक निवेश पिछले तीन साल में ही हुआ

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में आने वाले निवेश में से आधा पिछले तीन वर्षो में आया है। पिछले वर्ष देश में रिकॉर्ड 16 अरब डालर का निवेश आया। यह सरकार की ओर से दूरगामी नीतिगत प्रभाव वाले निर्णयों के कारण आए हैं जो सुधार और बदलाव के मार्गदर्शक सिद्धांत पर आधारित हैं। भारतीय मूल के लोगों को विश्व में भारत का स्थायी राजदूत करार देते हुए मोदी ने कहा कि पिछले तीन-चार वर्षो में भारत में महत्वपूर्ण बदलाव आया है, हमारे प्रति विश्व का नजरिया बदल रहा है तथा भारत के लोगों की आशाएं-आकांक्षाएं इस समय उच्चतम स्तर पर हैं।

  • विश्व में भाईचारे का समर्थक 

उन्होंने कहा कि भारत समूचे विश्व में सुख, शान्ति, समृद्धि, लोकतांत्रिक मूल्यों, समावेशिता, सहयोग और भाई-चारे का पक्षधर रहा है। उन्होंने कहा, भारत विश्व में शांति, प्रगति और समृद्धि के लिए योगदान करता रहे, यही हमारा प्रयास है, और यही हमारी प्रतिबद्धता भी है।

  • देश की प्रगति में हिस्सेदार बनें प्रवासी सांसद 

प्रधानमंत्री ने दुनिया भर के प्रवासी भारतीय सांसदों से भारत की प्रगति में हिस्सेदार बनने और देश के आर्थिक विकास में उत्प्रेरक की भूमिका निभाने की अपील की। इस समारोह का आयोजन ऐसे समय में किया जा रहा है जब इस वर्ष महात्मा गांधी के दक्षिण अफ्रीका से भारत लौटने की 102वीं वर्षगांठ मनाई जा रही है ।

  • दुनिया के मंचों पर हमेशा सकारात्मक भूमिका निभाई

मोदी ने कहा कि भारत ने दुनिया के मंचों पर हमेशा सकारात्मक भूमिका निभाई है और महात्मा गांधी के अहिंसा के दर्शन से चरमपंथ और कट्टरपंथ का मुकाबला किया जा सकता है । उन्होंने कहा, भारत ऐसा देश है जिसने दुनिया के मंचों पर हमेशा रचनात्मक भूमिका निभाई है । हम किसी भी देश के साथ अपनी नीति का मूल्यांकन लाभ और हानि के आधार पर नहीं करते हैं बल्कि इसका आकलन मानवीय मूल्यों के आइने में करते हैं ।

  • दूसरे देश के संसाधनों का दोहन करने पर हमारा ध्यान नहीं 

उन्होंने कहा कि हमारा न तो किसी देश के संसाधनों के दोहन करने पर ध्यान होता है और न ही हम किसी के इलाके पर नजर रखते हैं । प्रधानमंत्री का परोक्ष संकेत उपमहाद्वीप में चीन के प्रभाव बढ़ाने के प्रयासों के संदर्भ में माना जा रहा है जो दक्षिण एशिया के देशों में भारी निवेश कर रहा है।

  • भारतीय मूल के लोग तीन देशों में हैं पीएम

 उन्होंने कहा कि राजनीति की बात करूं तो, मैं देख ही रहा हूं कि कैसे भारतीय मूल की एक मिनी विश्व संसद मेरे सामने उपस्थित है। आज भारतीय मूल के लोग मॉरीशस, पुर्तगाल और आयरलैंड में प्रधानमंत्री हैं। भारतीय मूल के लोग और भी बहुत से देशों में शासनाध्यक्ष और सरकार के मुखिया रह चुके हैं ।

  • भारतीय मूल के 135 सांसद-मेयर ले रहे हैं सम्मेलन में भाग 

प्रथम प्रवासी सांसद सम्मेलन में 24 देशों से भारतीय मूल के करीब 135 सांसद और मेयर शामिल हो रहे हैं। नई दिल्ली के प्रवासी भारतीय केंद्र में आयोजित होने वाले इस सम्मेलन का उद्देश्य प्रवासी भारतीयों से संपर्क के जरिए इन देशों से संबंध मजबूत बनाना है। 

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>