राफेल को वायु सेना ने बताया जबर्दस्त, उधर करार पर रोक के लिए अगले सप्ताह सुनवाई

rafaleग्राम समाचार,  नई दिल्ली। राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर मचे बवाल के बीच वायु सेना ने कहा है कि यह ताकतवर विमान है और वायु सेना उत्सुकता के साथ इसका इंतजार कर रही है। वायु सेना उप प्रमुख एयर मार्शल एसबी देव ने एक कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं के सवालों के जवाब में कहा है कि यह जबरदस्त विमान है और इसकी क्षमता बहुत अधिक है। उन्होंने कहा, हमें इसकी जलद जरूरत है और हम इसका उत्सुकता से इंतजार कर रहे हैं। इस सौदे से संबंधित ऑफसेट के बारे में जानने के लिए रक्षा खरीद नीति को पढ़ने की जरूरत है। राफेल को लेकर जो बात उठ रही है वह जानकारी के अभाव में उठ रही है। तेजस विमानों की आपूत्तर्ि में हो रही देरी के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि वायु सेना को विमानों की जल्द जरूरत है। सार्वजनिक क्षेत्र बनाये या निजी क्षेत्र, बात यह है कि वायु सेना को विमान समय पर मिलने चाहिए और यदि इनका पैसा देश में ही रहता है भले ही वह सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम के पास रहे या निजी क्षेत्र के पास तो इससे अच्छी बात क्या हो सकती है।

करार पर रोक के लिए अगले सप्ताह सुनवाई

राफेल सौदे में कथित घोटाले को लेकर सरकार और विपक्ष के बीच जारी बहस अब राजनीतिक गलियारों से उठकर उच्चतम न्यायालय तक पहुंच गई, जिस पर अगले सप्ताह सुनवाई की उम्मीद है। वकील मनोहर लाल शर्मा ने राफेल विमानों के सौदे पर रोक लगाने संबंधी एक जनहित याचिका उच्चतम न्यायालय में दायर की है। शर्मा ने बुधवार को मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति एएम खानविलकर और न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़ की खंडपीठ के समक्ष मामले का विशेष उल्लेख किया और त्वरित सुनवाई का अनुरोध किया। खंडपीठ ने उनकी दलील पर विचार करने के बाद मामले को सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया और इस पर अगले हफ्ते सुनवाई करने का याचिकाकर्ता को भरोसा दिया। न्यायमूर्ति मिश्रा ने कहा, इस पर अगले हफ्ते सुनवाई होगी। शर्मा की याचिका में राफेल सौदे को रद्द करने, कथित अनियमितताओं के कारण प्राथमिकी दर्ज करने और कानूनी कार्रवाई के आदेश देने का अनुरोध न्यायालय से किया गया है।