अगस्त में 87 साल की सबसे ज्यादा बारिश के आसार, राज्य को 700 करोड़ रुपए की मदद देगा यूएई

Keral floodतिरुअनंतपुरम (एजेंसी)। केरल में अगस्त में होने वाली बारिश का 87 साल का रिकॉर्ड टूट सकता है। मौसम विभाग के मुताबिक, राज्य में इस साल 1 से 20 अगस्त तक औसत 771 मिमी बारिश हो गई। इससे पहले 1931 के अगस्त में 1132 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई थी, लेकिन यह 31 दिनों का आंकड़ा था। वहीं, इडुक्की में अगस्त की बारिश का पिछले 111 साल का रिकॉर्ड इस बार टूट गया। यहां अब तक 1,419 मिमी बारिश हो चुकी है। इससे पहले 1907 में यहां अगस्त के 31 दिनों में कुल 1,387 मिमी बारिश दर्ज हुई थी। इस बार यह सबसे ज्यादा बाढ़ प्रभावित जिला है।

इस बीच, केरल के मुख्यमंत्री पी. विजयन ने मंगलवार को कहा, ”संयुक्त अरब अमीरात ने केरल को 700 करोड़ रुपए की मदद देने की पेशकश की है।” केंद्र कुल 600 करोड़ रुपए की मदद दे रहा है। जबकि केरल ने 2000 करोड़ रुपए की मदद मांगी थी। राज्य में अब तक बाढ़ और बारिश से 20 हजार करोड़ रुपए का नुकसान होने का अनुमान है। राहत अभियान पर चर्चा के लिए 30 अगस्त को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जा सकता है।
सामान्य से ढाई गुना बारिश : मौसम विभाग के क्लाइमेट डेटा मैनेजमेंट एंड सर्विसेज के प्रमुख पुलक गुहाठाकुरता ने बताया कि इस साल में अगस्त में हुई बारिश आमतौर पर होने बाली बरसात से ढाई गुना ज्यादा है। केरल में मंगलवार को 13 दिन बाद बारिश और बाढ़ से लोगों को राहत मिली। कई इलाकों में बाढ़ का पानी कम हुआ, जिससे लोगों को रोजमर्रा की जरूरत की चीजें मिलना शुरू हो गई हैं। हालांकि, अभी भी कई ऐसे इलाके हैं, जहां हजारों की तादाद में लोग फंसे हैं। सोमवार को 6 और लोगों की मौत हो जाने के बाद 8 से 20 अगस्त तक मरने वालों की तादाद 223 पहुंच गई। उधर, राज्य में 29 मई को आई पहली बाढ़ के बाद मरने वालों की संख्या बढ़कर 400 से ज्यादा हो गई।

12 साल से कम उम्र के 1,76,495 बच्चे शिविरों में : मुख्यमंत्री विजयन ने सोमवार देर शाम प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि राज्य में 5645 राहत शिविरों में 10,28,073 लाख लोगों को रखा गया है। इनमें 4,51,929 महिलाएं, 3,99,649 पुरुष और 12 साल से कम उम्र के 1,76,495 बच्चे शामिल हैं। सोमवार को राज्य के निचले इलाकों से 602 लोगों को बचाया गया। 19 अगस्त को 22,000, 17 अगस्त को 58,000 और 17 अगस्त को 82,000 लोगों को रेस्क्यू किया गया था। केंद्र ने केरल की बाढ़ को गंभीर किस्म की आपदा घोषित कर दिया। इस श्रेणी की आपदा के लिए प्रभावित राज्य को राष्ट्रीय स्तर पर सहायता मुहैया करवाई जाती है।

कोच्चि में लोगों को राहत, इंडिगो ने भी फ्लाइट सेवा शुरू: कोच्चि में पेरियार नदी में बाढ़ का पानी कम हुआ है। यहां आम जीवन धीरे-धीरे पटरी पर लौट रहा है। कोच्चि नौसेना एयरबेस से सोमवार को छोटे विमानों का परिचालन शुरू हो गया। अलायंस एयर ने बेंगलुरु-कोच्चि-बेंगलुरु के बीच दो फ्लाइट, चेन्नई-त्रिची-चेन्नई के बीच एक उड़ान और हैदराबाद-बेंगलुरु-कोच्चि-हैदराबाद के बीच 1 फ्लाइट शुरू की है। इंडिगो ने बेंगलुरु-कोच्चि-बेंगलुरु और बेंगलुरु-कोच्चि-चेन्नई के बीच भी एक-एक फ्लाइट शुरू की है। दूसरी तरफ 15 अगस्त से बंद कोच्चि एयरपोर्ट पर सफाई का काम शुरू हो गया है। कोच्चि एयरपोर्ट के परिसर में पानी भरने के बाद इसे 26 अगस्त तक बंद रखा गया है।

कर्नाटक के मंत्री ने बाढ़ पीड़ितों पर बिस्किट फेंके : कर्नाटक के मंत्री एच डी रेवन्ना का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें वे बाढ़ पीड़ितों की ओर बिस्किट के पैकेट फेंकते दिखाई दे रहे हैं। भाजपा नेता एस सुरेश कुमार ने रेवन्ना की आलोचना की है। उन्होंने कहा, “लोक निर्माण मंत्री का बाढ़ पीड़ितों पर बिस्किट फेंकना जन कार्य नहीं है। क्या ये अहंकारी, असभ्य व्यवहार नहीं है? कर्नाटक के कोडगु जिले में पिछले दो हफ्ते से भारी बारिश हो रही है। बाढ़ से नौ लोगों की मौत हो चुकी है। बाढ़ प्रभावित इलाकों में राहत और बचाव अभियान जारी है।