सेव इंडियन फैमिली के दसवें तीन दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन वाराणसी में सम्पन्न

Smmanit pane wale padadhikari

ग्राम समाचार वराणसी (उत्तर प्रदेश)। पुरुष व परिवार अधिकारों की लडाई लडने वाली संस्था सेव इंडियन फैमिली के दसवें तीन दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन उत्तरप्रदेश के वाराणसी होटल हिन्दुस्तान इंटरनेशन में सम्पन्न हुई।
इस दौरान पुरुष विरोधी बाईज्ड कानूनों के दुरुपयोग पर व्यापक चर्चा की गई।

सम्मेलन में पुरुषों की शारीरिक व मानसिक समस्याओं पर देश भर से जुटे संस्था के पदाधिकारियों व सदस्यों ने व्यापक चर्चा करते हुए लैंगिंक समानता और संयुक्त परिवार के संकल्प को दोहराते हुए सरकार से पुरूषों के लिए शीघ्र आयोग व मंत्रालय बनाने की मांग की। साथ ही कहा कि पुरुषों के रक्षा के लिए एक भी कानून नहीं रहने पर महिलाओं द्वारा कानूनों के दुरूपयोग के कारण हर साल 94000 पुरूष आत्महत्या करने को विवश हैं।

मौके पर संस्था के बिहार झारखंड काउंसेलर प्रदीप कुमार विद्यार्थी ने पुरुष विरोधी बाईज्ड कानूनों के दुरुपयोग पर रोक लगाने की बात कही।

बक्सर के डीएम मुकेश पांडे व गोड्डा के रवि पंडित के ससुरालियों से परेशान विडियो बनाकर आत्महत्या करने वालो के परिवार के लिए न्याय की बात की।

साथ ही यह भी बताया गया कि कैंसर के दूसरा सबसे ज्यादा मरीज प्रोस्टेट की समस्या है जो मर्दो की बीमारी है जिसको लेकर सरकार उदासीन है।

सम्मेलन में संस्था में उत्कृष्ट कर करने के लिए झारखंड टीम को सम्मानित किया गया है। पुरस्कार पाने वालों में झारखंड रांची से हैदर अली, राजेन्द्र कुमार, चंद्रेश्वर सिंह व गोड्डा से प्रदीप विद्यार्थी शामिल थे।

– ग्राम समाचार, व्यूरो रिपोर्ट (वाराणसी)।