पाकुड़: स्थानीय प्रशासन ने अवैध रूप से बनाये गये विवाह भवन को मुक्त कराया

लिट्टीपाड़ा(पाकुड़)। जिला अंतर्गत लिट्टीपाड़ा प्रखण्ड के तालझारी गांव में सरकारी जमीन में अतिक्रमण कर अवैध रूप से बनाया गया विवाह भवन व एक मकान को शनिवार को प्रखण्ड विकास पदाधिकारी सह अंचलाधिकारी सत्यवीर रजक के उपस्थिति में अतिक्रम मुक्त करवाया। मौके पर थाना प्रभारी बिमल कुमार सिंह सहित भारी संख्या में पुलिस बल मौजूद थे। जानकारी के अनुसार तालझारी मौजा में अनाबादी खाता संख्या 7, दाग न.301  के सरकारी जमीन ( सड़क) पर सबसे पहले अकबर अंसारी ने 9 धुर जमीन पर अपना पक्के का मकान बनाते वक्त बरामदा व छजा को अतिक्रमण कर बना लिया था। ततपश्चात अकबर अंसारी के घर के आगे के ही 17 धुर सरकारी रास्ता पर ग्रामीण निशार अंसारी, सोहराब अंसारी, निमूल अंसारी व साहूद अंसारी समेत दर्जनों ग्रामीणों ने मिलकर गांव के प्रत्येक परिवार से 200 से 400 सो रुपया चंदा उठाकर नवम्बर 2016 में मदरसा भवन बना दिया। जिसमे गांव के बच्चो को पढाया जाता था। पर जब मदरसा का निर्माण अकबर अंसारी के घर के सामने किया जा रहा था उस वक्त भी अकबर ने तत्कालीन सीओ डागुर कोड़ा को लिखित आवेदन देकर निर्माण कार्य रोकवाने का प्रयास किया था। ग्रामीणों के आगे प्रशासन भी कमजोर पड़ गया और निर्माण कार्य  बन्द नही करवा पाया। अकबर के घर के सामने मदरसा भवन खड़ा हो जाने से उसका घर का सारा रास्ता बंद हो जाने से वह पुनः जिला प्रशासन का दरवाजा खटखटाया। जिला प्रशासन का सहयोग नही मिलने पर उन्होंने मुख्यमंत्री जनसंवाद में शिकायत दर्ज करवाया। तब जाकर प्रशासन हरकत में आई और ग्रामीणों को भवन को अतिक्रमण मुक्त करने का नोटिस बीडीओ सह सीओ के द्वारा दिया गया । ग्रामीण भवन को नही हटाकर उसपर विवाह भवन लिखवा दिया ताकि उसे प्रशासन  नही हटाने का प्रयास करेगा। साथ ही ग्रामीणों ने भी अकबर अंसारी के खिलाफ़ भी जनसंवाद किया और शिकायत किया कि वह भी अपना घर सरकारी जमीन पर बनाया है उसे भी हटाया जाए। सीओ सत्यवीर रजक ने अंचल निरीक्षक, राजस्व कर्मचारी व अमीन को भेजकर विवाह भवन व अकबर के घर के जमीन का जाच करवाने पर दोनों पक्ष का आरोप सत्य पाये जाने के पश्चात करवाई करते हुए विवाह भवन व अकबर  के घर का छज्जा को जेसीबी से तोड़वा दिया। सीओ सत्यवीर रजक, प्रखण्ड आपूर्ति पदाधिकारी सतेंद्र कुमार, दण्डकारी सह अंचल निरीक्षक चोनाराम हेम्ब्रम, हल्का कर्मचारी लक्ष्मी देहरी के साथ भारी संख्या में महिला पुलिस व जवान के उपस्थिति म थे।