रेवाडी जिला में नैशनल हाईवे 8 पर बनाये जाऐगें पांच फुट ओवर ब्रिज- उपायुक्त

ग्राम समाचार न्यूज़ रेवाड़ी {हरियाणा} : भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने दिल्ली से जयपुर तक 23 फुट ओवर ब्रिज मंजूर किये है जिसमें रेवाडी जिले में नैशनल हाईवे पर बनने वाले पांच फुट ओवर ब्रिज भी शामिल है। यह जानकारी उपायुक्त पंकज ने मंगलवार को जिला सचिवालय में सडक सुरक्षा को लेकर हुई बैठक में दी। उन्होंने बताया कि सडक सुरक्षा को लेकर सरकार गंभीर है तथा इसके लिए अनेक कदम उठाए जा रहे है। रेवाडी जिला में नैशनल हाईवे पर बनने वाले फुट ओवर ब्रिज की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि गांव मालपुरा चैनेंज 69 प्लस 700, खरखडा चैनेंज  74 प्लस 500,  खिजुरी चैनेंज, 81 प्लस 220, आसलवास चैनेंज 86 प्लस 400 व जयसिंह पुरा खेडा चैनेंज 105 प्लस 400 में बनाये जाएगें ताकि लोगों को सडक पार करते समय कोई परेशानी न हो। उपायुक्त ने एनएचएआई के अधिकारियों को निर्देश दिये कि फुट ओवर ब्रिज के कार्यो को शीघ्र अमली जामा पहनाया जाएं ताकि पैदल पथ यात्रियों को सुविधा प्रदान की जा सकें। उपायुक्त ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि शहर में जो भी स्कूल है उनके सामने से निकलने वाली सडकों के दोनों ओर छोटे स्पीड ब्रेकर लगाये जाए। उन्होंने कहा कि सडको पर जहां सुरक्षा के चेतावनी बोर्ड नहीं है वहां पर सुरक्षा चेतावनी बोर्ड  लगाये जाए ताकि लोगों को पढने में कोई परेशानी न हो। उन्होंने कहा कि पैदल यात्रियों के लिए जैबरा क्रास बनाये जाए ताकि पैदल यात्री सडक पार करते वक्त दुर्घटनाग्रस्त न हो और चालको को भी दूर से इसका पता चल सके। उन्होंने कहा कि सरकुलर रोड रेवाडी में जहां पर स्पेस हो वहां पर पीली स्ट्रीप लगाई जाए ताकि वाहन चालकों को दूर से पता चल सकें। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि सडक सुरक्षा को लेकर एक्सन टेकन रिपोर्ट (एटीआर) समय पर आनी चाहिए ताकि उनकी समीक्षा की जा सकें। उन्होंने पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिये कि समय-समय पर पुलिस नाके लगाएं तथा किस तिथि में कितने नाके है उनकी रिपोर्ट भेजे तथा तेज गति से चलाने वाले वाहनों के चालान करें ताकि सडक दुर्घटनाएं रोकी जा सकें। उपायुक्त ने कहा कि सडक पर जहां पर भी सीधे स्टैच है वहां पर वाहनों की गति जांचे तथा चालान करें। उन्होंने कहा कि सर्विस रोड पर जो गाडी पार्क होती है तो उनके भी चालान किये जाएं। बनीपुर चौक व धारूहेडा चौक के बारे में उपायुक्त ने कहा कि यह दोनों चौक यातायात सुरक्षा की दृष्टि से जोखिम भरे है इन चौकों पर जोखिम कम करने के लिए समाधान के रास्ते तलाशे और उन पर शीघ्र कार्य करें। उन्होंने कहा कि दुर्घटना सम्भावित क्षेत्रों का निरीक्षण कर ब्लैक स्पोट स्थानो पर सांकेतिक चिह्न लगाये जाए ताकि दुर्घटनाओं पर अकुंश लग सकें। इस बैठक में एसडीएम रेवाडी कुशल कटारिया, एसडीएम बावल सरेश, कोसली एसडीएम रविन्द्र यादव, उप-पुलिस अधीक्षक सतपाल, मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी मृदुल धर, कार्यकारी अभियंता पीडब्लूडी हेमन्त कुमार, आरएसए मोहित यादव, एनएचएआई के अभियंता ओपी यादव, एनएचएआई के इंजीनियर उमेश दास सहित अन्य सम्बंधित अधिकारी उपस्थित थे।