हिसार में एवर ग्रीन सोसाइटी की बैठक आयोजित

ग्राम समाचार न्यूज़ : हिसार : {हरियाणा} : एवर ग्रीन सोसायटी रामपुरा मौहल्ला के पीडि़त, संघर्ष समिति के सदस्यों की आवश्यक बैठक हरियाणा प्रदेश व्यापार मण्डल के प्रान्तीय अध्यक्ष बजरंग दास गर्ग की अध्यक्षता में महाराजा अग्रसेन भवन ट्रस्ट में हुई। इस बैठक में भारी संख्या में लोगों ने भाग लिया। इस बैठक में सोसायटी के प्रबन्धक द्वारा करोड़ों रुपये पीडि़त परिवार के ना देने के विरोध में 21 दिसम्बर 2017 को लघु सचिवालय के बाहर धरना देने की योजना तैयार की गई है। व्यापार मण्डल के प्रान्तीय अध्यक्ष बजरंग दास गर्ग ने उपस्थित पीडि़त परिवारों को सम्बोधित करते हुए कहा कि संघर्ष समिति आपकी पूरी लड़ाई लड़ रही है। आपके जो भी पैसे सोसायटी में जमा हैं, वह आपको दिलवाए जाऐंगे। सोसायटी के संचालक के खिलाफ दो मुकदमे दर्ज करवा दिये गये हैं और सोसायटी का सारा रिकार्ड रजिस्ट्रार ऑफिस द्वारा जब्त करके रजिस्ट्रार कार्यालय द्वारा भी कानूनी कार्यवाही की जा रही है। अगर कोई भी सरकारी अधिकारी अपने निजि स्वार्थ के लिए पीडि़त परिवार के खिलाफ सोसायटी की मद्द करेगा तो उसे बख्सा नहीं जाऐगा। उसके खिलाफ भी सख्त से सख्त कार्यवाही सरकार के माध्यम से करवाई जाऐगी। सोसायटी के खिलाफ 21 दिसम्बर 2017 को लघु सचिवालय में 11 बजे से 1 बजे तक धरना व प्रदर्शन किया जायेगा और उसी दिन आगामी संघर्ष की घोषणा भी की जायेगी। गर्ग ने हरियाणा सरकार व जिला प्रशासन से सोसायटी के सभी सदस्यों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही करने की मांग की है। जन संघर्ष समिति के अध्यक्ष गौतम सरदाना ने कहा कि किसी भी पीडि़त परिवार को चिन्ता ना करने की जरूरत नहीं हैै। आपके पैसे दिलवाने के लिए पूरा शहर आपके साथ है। संघर्ष समिति के संयोजक गोपीचन्द वर्मा ने कहा कि सोसायटी संचालक ताराचन्द बागड़ी के साथ कई बार पंचायत हुई, मगर बागड़ी पीडि़त परिवार को पैसे देने की बजाये पंचायत को बार-बार गुमराह कर रहा हैै। जब तक पीडि़त परिवार के पैसे नहीं मिल जाते हैं, चैन से नहीं बैठेंगे, इसी प्रकार हमारा संघर्ष जारी रहेगा। 21 दिसम्बर 2017 को धरने में भारी संख्या में लोग भाग लेंगे। इस बैठक में संघर्ष समिति के संयोजक गोपीचन्द वर्मा, जन संघर्ष समिति के अध्यक्ष गौतम सरदाना, नई अनाज मण्डी प्रधान सन्तकुमार सिंगल, संगठन मंत्री राजेन्द्र बंसल, संघर्ष समिति के सदस्य राजकुमार, बहन मैना देवी साध्वी, एडवोकेट पवन शर्मा, डी.सी. मदान, कश्मीरी लाल बतरा, औम प्रकाश, सुभाष सैनी, सुरेश बंसल, प्रेम कुमार आदि लोगों ने अपने विचार रखे।