फल फूल रहा है गैस रिफिलिंग का कारोबार, बारूद के मुहाने पर रायबरेली शहर, प्रशासन मौन

Fruit is flowing gas refilling business, Rae Bareli cityग्राम समाचार, रायबरेली (उत्तर प्रदेश)।  रायबरेली केंद्र व प्रदेश सरकार रसोई गैस सिलेंडरों की कालाबाजारी को रोकने के लिए आम जनता पर रोज नए नियम थोप रही है। सब्सिडी न लेने के लिये करोड़ो का प्रचार व प्रसार कर चुकी है। परंतु गैस की कालाबाजारी और रिफिलिंग का कारोबार आज भी बदस्तूर जारी है।

हाल यह है कि शहर के नया पुरवा, डिग्री कॉलेज, सोनिया नगर आदि तमाम जगहों पर गैस की रिफलिंग का कुटीर उद्योग चल रहा है। होटलो पर कमर्शियल सिलेंडर की जगह घरेलू सिलेंडर का उपयोग किया जा रहा है। कारोबारी बड़ी आसानी से दिखाने को घरेलू सिलेंडरों से कमर्शियल सिलेंडर में एक लोहे के पाइप के सहारे गैस भर लेते है और किसी भी कार्यवाही से अपने आप को पाक साफ साबित कर डालते है।

यही नही वाहनों में भी इन्ही घरेलू सिलेंडरों की गैस का जम कर उपयोग किया जा रहा है। नया पुरवा में तो हर दूसरे घर में गैस सिलेंडरों से वाहनों में गैस भरने का कारोबार हो रहा है।

हद तो तब ख़त्म होती है जब इस करोबार में नाबालिक बच्चे भी अपना भरपूर सहयोग करते है। जबकि इनके पास ना तो इस कार्य के लिये कोई अनुभव होता है और ना ही किसी अप्रिय घटना से निपटने के लिए कोई संसाधन ही उपलब्ध होता है। ताजुब इस बात का होता है कि इतनी बड़ी मात्रा में हो रही गैस की रिफिलिंग के बारे में जिला प्रसाशन पूरी तरह चुप्पी साधे बैठा है। शायद वह किसी अप्रिय घटना का इंतजार कर रहा है। परतुं कोई भी छोटी सी भूल पुरे शहर को हिला कर रख देगी। क्योंकि तमाम कारोबारी अपने इस कारोबार को इतनी तंग गलियों में चला रहे है कि आपातकाल के समय उन तक राहत टीम पहुचना जिला प्रशासन के लिये मुस्किल ही नहीं नामुकिन हो जायेगा।

 – माधव सिंह, ग्राम समाचार, रायबरेली (उत्तर प्रदेश)।